Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 12 मार्च 2018

दांडी मार्च कूच दिवस और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिन्दी ब्लॉगर्स को सादर नमस्कार। 
दांडी स्थित महात्मा गाँधी की प्रतिमा
दांडी मार्च से अभिप्राय उस पैदल यात्रा से है, जो महात्मा गाँधी और उनके स्वयं सेवकों द्वारा 12 मार्च, 1930 ई. को प्रारम्भ की गई थी। इसका मुख्य उद्देश्य था- "अंग्रेज़ों द्वारा बनाये गए 'नमक क़ानून को तोड़ना'।" गाँधी जी ने अपने 78 स्वयं सेवकों, जिनमें वेब मिलर भी एक था, के साथ साबरमती आश्रम से 358 कि.मी. दूर स्थित दांडी के लिए प्रस्थान किया। लगभग 24 दिन बाद 6 अप्रैल, 1930 ई. को दांडी पहुँचकर उन्होंने समुद्रतट पर नमक क़ानून को तोड़ा। महात्मा गाँधी ने दांडी यात्रा के दौरान सूरत, डिंडौरी, वांज, धमन के बाद नवसारी को यात्रा के आखिरी दिनों में अपना पड़ाव बनाया था। यहाँ से कराडी और दांडी की यात्रा पूरी की थी। नवसारी से दांडी का फासला लगभग 13 मील का है।





~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~












आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

6 टिप्पणियाँ:

Jyoti Dehliwal ने कहा…

उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, हर्षवर्धन।

Dr Kiran Mishra ने कहा…

बेहतरीन अल्फ़ाज़ सारयुक्त चर्चा, सार्थक मंच... शुक्रिया हमें बुलाने का... आभार के साथ विदा।

रश्मि शर्मा ने कहा…

बढ़िया चर्चा। दांडी यात्रा के बारे में बताने के लिए धन्यवाद।उम्दा बुलेटिन। मेरी रचना आपने शामिल की इसके लिए आभार प्रगट करती हूँ।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति......बहुत बहुत बधाई......

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

बढ़िया रहा संकलन

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार