Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 7 मार्च 2018

तेरी कुड़माई हो गई ?"




तेरी कुड़माई हो गई ?"

... धत्त, 
हो गई तो तुझसे कौन ब्याह करेगा !"

अच्छा, तो करेगी मुझसे शादी ?"

करुँगी, पर तू वादा कर कि तू जीवन भर मेरे संग खुश रहेगा  ... "

ये क्या बात हुई !"

हुई, बात हुई  ... 
चाह तो  है कि पहनूँ लाल चुनरी 
लाल लाल चूड़ियाँ 

नाक की लौंग

पाजेब 

बिछिया 
... पर, बड़ा डर लगता है 
जाने तू कब बदल जाए 
और मैं  ... पागलों की तरह बुदबुदाती रहूँ 
"तेरी कुड़माई हो गई"
और धत्त न कह पाऊँ  ... 


मेरे गीत !: साथ तुम्हारे दौड़ रहा है, बुड्ढा तिरेसठ ...

शेष फिर...: सलाह

ये जीना भी कोई जीना है लल्लू !: मालामाल पॉकेट

Amrita Tanmay: यदि मैं भी कभी गुनगुना दूँ ....... - Blogspot

कमिया तुममे दिखी ही नही...!!! - आहुति - Blogspot

तू मेरी सोच में उस हद तक
शामिल है
जहां
धरती और आकाश
एक हो जाते हैं 
जानां ......!
# .......#..........#..........#
तेरी भाव तरंगें
छूती हैं मुझे
और
मेरी भाव तरंगें
यक़ीनन
तुझ तक
पहुंचती तो होगी न
जानां ......!
#...........#...........#............#
हर रोज़ ये सोचना
क़े न सोचेंगे तुझे
हर रात आख़िरी पहर तक
तेरे पहलू में रहना
सच !
ये सोच के दायरे भी
कितने अज़ीब है न
जानां......!

3 टिप्पणियाँ:

Aadii ने कहा…

Bahut badhiya collection!

Satish Saxena ने कहा…

वाह , बेहतरीन संकलन , आभार आपका

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार