Subscribe:

Ads 468x60px

Featured Posts

मंगलवार, 17 जुलाई 2018

इमोजी का संसार और ब्लॉग बुलेटिन


नमस्कार साथियो,
सोशल मीडिया के इस दौर में उसके सभी मंचों पर इमोजी (Emoji) का प्रयोग बातचीत में खूब हो रहा है. कोई बातचीत बिना इमोजी के पूरी नहीं होती है. इमोजी का आरम्भ जापान से हुआ था. सन 1999 में जापान के डिजायनर शिगेताका कुरिया ने इमोजी का निर्माण किया. वे एक सेलफोन कंपनी में काम किया करते थे. इसी कंपनी के मोबाइल में इस्तेमाल के लिए उन्होंने इमोजी का अविष्कार किया. इमोजी को वैश्विक बाजार में ले जाने का श्रेय एप्पल कंपनी को जाता है. एप्पल ने सन 2007 में अपने i-phone में दो तरह के कीबोर्ड बनाये, जिसमें एक को इमोजी कीबोर्ड के नाम से जाना गया. इसके बाद धीरे-धीरे समूची दुनिया में इमोजी प्रसिद्द होने लगा. सन 2013 में एंड्राइड मोबाइल ने भी इमोजी को अपना लिया.


समय गुजरता रहा, इमोजी लोगों की बातचीत में शामिल होता रहा. उसको मिलती लगातार प्रसिद्धि के चलते इमोजिपेडिया नामक वेबसाइट का उदय हुआ. इसमें सभी तरह की इमोजी मिल जाती हैं. कालांतर में सन 2014 में इमोजिपेडिया के संस्थापक जेरेमी बर्ज ने विश्व इमोजी दिवस की शुरुआत की. तभी से प्रतिवर्ष 17 जुलाई को विश्व इमोजी दिवस का आरम्भ हो गया. इस दिन को विश्व इमोजी दिवस के रूप में मनाये जाने का कारण यह है कि इसी दिन एप्पल कंपनी ने अपने i-phone में इमोजी कैलेण्डर लांच किया था. सन 2013 में इमोजी (Emoji) शब्द को ऑक्सफ़ोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी में शामिल किया गया. यहाँ एक जानकारी और देते चलें कि इमोजी (Emoji) का अर्थ किसी भी रूप में Emotion से नहीं है. असल में यह एक जापानी शब्द है जो e और moji से मिलकर बनाया गया है. जापानी में e का अर्थ Picture से और moji का अर्थ Character से लगाया जाता है. इमोजी के इस्तेमाल को लेकर माना जाता है कि दुनिया भर में प्रतिदिन 600 करोड़ इमोजी का उपयोग सोशल मीडिया के विभिन्न मंचों पर किया जाता है.

सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला इमोजी - Face with Tears of Joy

उपयोग के मामले में दूसरे नंबर वाला इमोजी - Smiling Face with Heart-Eyes

इमोजी अब एक नई भाषा के रूप में जन्म ले चुकी है और लगातार वृद्धि भी कर रही है. बातचीत को सहज और आसान बना रही है किन्तु इसी इमोजी का गलत उपयोग नुकसानदेह भी साबित हो सकता है. एक खबर के अनुसार फ़्रांस में एक युवा को तीन माह की कैद की सजा सुनाई गई थी. उसने अपनी गर्लफ्रेंड को पिस्तौल वाली इमोजी भेज दी. जिसके चलते अदालत ने माना कि उस लड़के ने अपनी गर्लफ्रेंड को जान से मारने की धमकी दी है. ऐसी कोई खबर अभी अपने देश में नहीं आई है फिर भी इमोजी का सहज, सरल, सुरक्षित, अर्थपरक इस्तेमाल करते हुए आनंद लीजिये आज की बुलेटिन का.  

++++++++++











सोमवार, 16 जुलाई 2018

जगदीशचन्द्र माथुर और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार।
जगदीशचन्द्र माथुर
जगदीशचन्द्र माथुर (अंग्रेज़ी: Jagdish Chandra Mathur, जन्म: 16 जुलाई, 1917; मृत्यु: 14 मई, 1978) हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकारों में से एक थे, जिन्होंने आकाशवाणी में काम करते हुए हिन्दी की लोकप्रियता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान किया। टेलीविज़न उन्हीं के जमाने में वर्ष 1949 में शुरू हुआ था। हिन्दी और भारतीय भाषाओं के तमाम बड़े लेखकों को वे ही रेडियो में लेकर आए थे। सुमित्रानंदन पंत से लेकर रामधारी सिंह 'दिनकर' और बालकृष्ण शर्मा 'नवीन' जैसे दिग्गज साहित्यकारों के साथ उन्होंने हिंदी के माध्यम से सांस्कृतिक पुनर्जागरण का सूचना संचार तंत्र विकसित और स्थापित किया था।


आज हिन्दी के लोकप्रिय साहित्यकार जगदीशचन्द्र माथुर जी के 101वें जन्म दिवस पर हम सब उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। सादर।।



आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।। 

लेखागार