Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शनिवार, 21 दिसंबर 2019

2019 का वार्षिक अवलोकन  (बीसवां)




प्रतिभा सक्सेना का ब्लॉग 

 मुझे नींद से डर लगता है.  


बिलकुल नही सो पाती ,
यों ही बिलखते ,
कितने दिन हो गए !

 झपकी आते ही 

चारों ओर  वही भयावह घिर आता है -
नींद के अँधेरे में अटकी मैं,
पिशााचों का घेरा  .  

बस में खड़ी बेबस  झोंके खाती देह , 

 आगे पीछे,इधऱ से उधर से ,उँगलियाँ कोंचते 
ज़हर भरी फुफकार छोड़ते बार-बार .
सिमटती देह पर .  
अँगुलियाँ नहीं, लपलपाते साँप हैं ये ,
 देह से लटके, नर के प्रतीक.

आँखों में गिजगिजी तृष्णा लिये 

चीथते हैं अंग-अंग.
चीख निकलती नहीं,जीभ काठ, 
हाथ-पाँव सुन्न 
दिमाग़ शून्य.
चारों ओर वही सब ,
कहीं छुटकारा नहीं.

देह नुच-नुच कर चीथड़ा , 

हर साँस ज्यों तीर की चुभन .
  वीभत्स , घोर यंत्रणा ,
 उफ़्फ़ ,कहाँ जाऊँ ?
कैसे पार पाऊँ? 

अरे, कोई काट फेंको 

इन ज़हरीले साँपों को .
डसते-दाघते रहेंगे , 
नारी देह हो बस 
बचपन ,जवानी ,बुढ़ापा 
कोई अंतर नहीं पड़ता इन्हें.

घबरा कर आँखें खोल देती हूँ.

 समय वहीं थम गया है .
 नहीं, नहीं सो सकती,
मुझे नींद से डर लगता है.

8 टिप्पणियाँ:

Sagar ने कहा…

मैंने अभी आपका ब्लॉग पढ़ा है, यह बहुत ही शानदार है।
मैं भी ब्लॉगर हूँ
मेरे ब्लॉग पर जाने के लिए
यहां क्लिक करें:- आजादी हमको मिली नहीं, हमने पाया बंटवारा है !

रेणु ने कहा…

मन को उद्वेलित करती रचना, जो एक नारी अंतस में व्याप्त भीषण असुरक्षा का बोध कराती है। आदरणीय प्रतिभा जी मैंने आपको ज्यादा नहीं पढ़ा, पर आज आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा। मेरी शुभकामनाये ब्लॉग बुलेटिंन के एक दिन के अतिथि बनने पर 🙏🙏🙏🙏🌹💐🌹💐🌹

रेणु ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति के लिए शुक्रिया ,आभार ब्लॉग बुलेटिंन 🙏🙏🙏

Sadhana Vaid ने कहा…

ओह ! अत्यंत मार्मिक ! दिल को दहलाती हुई सशक्त अभिव्यक्ति !

संजय भास्‍कर ने कहा…

सशक्त अभिव्यक्ति

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

बहुत-बहुत आभारी हूँ,आप सबकी अपनी प्रतिक्रिया देने के लिये और ऱश्मिजी की विशेष रूप से मुझे यहाँ स्थान देने हेतु .

Help in hindi ने कहा…

Nice post
aryaexams
aryahindi

Emily Katie ने कहा…

Birthday Gifts Online

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार