Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 13 दिसंबर 2019

2019 का वार्षिक अवलोकन  (तेरहवां)




नील परमार का ब्लॉग

Search Results


दुख की सूचना



भौतिकी का एक स्थापित सत्य है
कि प्रकाश की गति अद्वितीय है
सूर्य से धरती की दूरी नाप लेता है प्रकाश मिनटों में
और बादल गरजने की ध्वनि से भी पहले
दिख जाती है हमे कड़कती हुई बिजली

फिर भी
ऐसा कितना कुछ है
जो है हमारी दुनिया मे
लेकिन अभी नज़र से दूर है

जैसे कई तारे
हमारी ही दुनिया के
जिनका प्रकाश
नही पहुंचा है हमारी पृथ्वी तक

एक रात अचानक आ जुड़ेगा
अँधेरे होते आसमान में
एक नया
अप्रत्याशित
सितारा।

आकाश देखने पर ये याद आता है
कि ऐसे कितने ही दुःख है
जो हैं
लेकिन उनकी सूचना नही पहुंची है हम तक

हम तारों का जश्न मनाये
या अँधेरे का शोक
इससे रेशा भर भी फर्क नही पड़ता उस दूरी पर
जो एक दुख को हम तक पहुँचने में तय करनी है।



4 टिप्पणियाँ:

रेणु ने कहा…

सुंदर प्रस्तुती | एक नये ब्लॉग से परिचय कराने के लिए आभार रश्मि जी | नील जी कोा ब्लॉग बहुत सार्थक रचनाओं से भरा है |उन्हें हार्दिक शुभकामनायें इस अवलोकन का हिस्सा बनने के लिए |

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह ... बहुत लाजवाब रचना ...
विशाल केनवस है कवि के पास अपनी नवीन सोच का ...
बहुत बधाई नील परमार को

Kamini Sinha ने कहा…

बेहतरीन सोच, लाजबाब सृजन..., ढेरो शुभकामनाएं आपको

Emily Katie ने कहा…

Cakes Online
Order Cakes Online

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार