Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 6 जुलाई 2018

थोड़ा हंसिए, मुस्कुराइए

आज कुछ गंभीर चर्चा की जगह हल्के फुल्के चुटकुले... थोड़ा आप ही हंसिये मुस्कुराइए... मौज कीजिए...
------
कुछ अमीरों की चर्चा…
किसी ने कहा मेरा बाथरुम 10 लाख का तो किसी ने 20 लाख को किसी ने 50 लाख का बताया
और जब यही बात एक गाँव के आदमी से पूछी गई तो उसने बताया की मै जहा सुबह लोटा लेके जाता हूँ उस खेत की कीमत 7 करोड़ है
और ऐसे बाथरुम तो हम रोज़ बदल देते है !!
-------
बाबा ने कहा “पेट के रोग से बचने के लिए पानी में आजवाइन डालकर पिए ”
कुछ भक्तों ने ये समझा पानी मैं आज Wine डालकर पियें।
अब सब अच्छा फील कर रहे हैं।
-------
शराबी चाहे कितना भी अनपढ क्यों न हो
Quarter के तीन पेग ऐसे बनाता है
जैसे किसी प्रयोगशाला का बहुत बडा Scientist हो!!
--------
दुकानदार : मैंने आपको दुकान की एक-एक चप्पल दिखा दी, अब तो एक भी बाकी नहीं है।
महिला : वो सामने वाले डिब्बे में क्या है?
दुकानदार : बहन, रहम कर थोड़ा, उस डब्बे में मेरा दोपहर का लंच है!!
----------

बदलाव की इच्छा का सुख

अरे वाह!!

[दो शब्द] हिंदी की दुनिया : दुनिया में हिंदी

नियम नहीं हैं कोई गल नहीं बिना नियम के चलवा देंगे हजूर हम समझा देंगे

स्व॰ डॉ० श्यामाप्रसाद मुखर्जी जी की ११७ वीं जयंती

दस्तक: छगन लाल गर्ग 'विज्ञ' की रचनाएं

सत्संगति से उद्धार कब तक नहीं होता

महुआ घटवारन - मारे गए गुलफ़ाम से

किसी को याद है उस "बटर-ऑयल" की !

.... ज़िंदादिल :)

कविता

5 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

आज की सुन्दर हल्की फुलकी बुलेटिन। आभार देव जी 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये।

yashoda Agrawal ने कहा…

बेहतरीन बुलेटिन
मन हलका हुआ सबेरे सबेरे
सादर

Abhilasha ने कहा…

आज का यह बुलेटिन रोचक व प्रेरणास्पद है सादर आभार

Vishwa Mohan ने कहा…

सुंदर!

Kavita Rawat ने कहा…

रोचक चुटकुलों के साथ सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार