Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 3 जुलाई 2018

कुछ इधर की - कुछ उधर की : 2100 वीं ब्लॉग-बुलेटिन

बात बहुत पुराना है, लेकिन एतना पुराना भी नहीं कि दादी-नानी के कहानी जइसा है. ऊ ब्लॉगिंग के स्वर्न काल का बात है माने सन 2011 के आस-पास का. हम दुन्नो दोस्त माने हम अऊर चैतन्य आलोक जी का फेवरिट चैनेल होता था सब-टीवी. एही नहीं, एक बार मनोज कुमार जी के साथ भी बात बात के बात में पता चला कि ऊ दुन्नो बेक्ति (पति-पत्नी) भी सब-टीवी बहुत मन लगाकर देखते हैं. असल में ई चैनेल को पसंद करनें का कारन एही था कि ई चैनेल पर जेतना भी कार्जक्रम देखाया जाता था उसका उद्देस खाली अऊर खाली मनोरंजन होता था.

जिन्नगी में एतना टेंसन पसरा हुआ है कि अगर अदमी ऊ टेंसन को बाहर निकालने का कोसिस नहीं करे, त उसका माथा फट जाए. अब हम ही को ले लीजिये. हमारा लिखना-पढना सब छूट गया खाली टेंसन के कारन. पहिले हम लिखे भी थे कि हम गाना गाना सुरू किये. लेकिन बाद में एहसास हुआ कि सुर लगाना बहुत मोस्किल काम है. ऐसा समय में अगर टीवी देखने बैठिये अऊर वहाँ भी माथा का बोझ दोगुना हो जाए, त सोचिये का हाल होगा. अइसा समय में थोड़ा देर के लिये अपना सारा दु:ख, तकलीफ, टेंसन से मुक्ति मिले अऊर खुलकर हंसने का मौका मिले त कऊन बेवकूफ अदमी नहीं चाहेगा कि ऊ मौका उचककर लपक ले.

टीवी का निऊज चैनेल पर बिमर्स के नाम पर बवाल अऊर जबर्दस्ती का चीख-पुकार मचा रहता है, बाकी का चैनेल पर कहाँई के नाम पर चुइंग गम के तरह ज़बर्दस्ती फैलता हुआ कहानी नहीं त सास, बहू अऊर साजिस. साजिस. परेसानी भूलने जाइये त अऊर बढाकर लौटता है अदमी. ई सब चैनेल के बीच में सब-टीवी एकलौता चैनेल है, जिसपर कोनो सास बहु साजिस नहीं होता है, अऊर होता है त बस मनोरन्जन.

चार साल गुजरात में रहने के बाद पता चला कि ई चैनेल केतना लोकप्रिय है. अऊर सबसे लोकप्रिय है उसमें देखाया जाने वाला सीरियल – तारक मेहता का उल्टा चशमा. बहुत सा लोग को ई बकवास लगेगा, बहुत सा लोग को ई असहनीय भी लगेगा काहे कि इसकी मुख्य कलाकार दया बेन अजीब सा आवाज निकालकर बोलती है. लेकिन कुल मिलाकर ई सीरियल बहुत सा अच्छा-अच्छा सीख हम लोग को खेल-खेल में दे जाता है.
एही नहीं, एक समय में चलने वाला मूक सीरियल गुटर गूँ, चाहे एफ. आई. आर., श्रीमान श्रीमती, वाह वाह जइसा बहुत सा मनोरंजक सीरियल. हो सकता है़ कि हमरा बात से आप्लोग सहमत नहीं होंगे. आप कहियेगा कि बेकार का कॉमेडी देखाया जाता है. त हम आपको बिस्वास करने के लिये नहीं कहेंगे. दरसल नॉन्सेंस कॉमेडी के माध्यम से मनोरंजन करना ई चैनेल का उद्देस है. याद होगा आपको... हमं मनमोहन देसाई साहब के बारे में लिखे थे. उनका कोनो सिनेमा उठाकर देखिये... सुपरहिट. लेकिन तथ्य के मामला में एकदम बकवास, बिस्वास नहीं हो त अमर अकबर ऐंथोनीका खून देने वाला सीन इयाद कर लीजिये. एही नहीं फिलिम के सुरू में बच्चा सब का भुलाना अऊर अंत में मिल जाना. ई सब एक नॉनसेंस सिल्सिला होता था, जिसका उद्देस आपका स्वस्थ मनोरंजन के अलावा कुछ नहीं.

बस ओही हाल तारक मेहता का उल्टा चश्मासीरियल का है. ई सीरियल का लोकप्रियता का अंदाजा एही बात से लगा सकते हैं कि गुजरात के हर छोटा बड़ा कस्बा में पान-सोडा के दुकान ता है लोग. हमरे घर में रहने वाली सास-बहु त दीवानी हैं ई सीरियल की.


अभी पिछला सप्ताह ई सीरियल का 2500 एपिसोड हो गया अऊर साथ-साथ हमारा, माफ कीजिये, आपके ब्लॉग-बुलेटिन का 2100 वाँ एपिसोड भी आ गया. बहुत टेंसन है अऊर लाइफ में टण्टे हो रक्खे हैं, फिर भी जब मौका मिलता है त हम आपके सामने हाजिर हो जाते हैं.

अंग्रेजी में ऊ का कहते हैं एंजॉय कीजिये!!
                                                                                  - सलिल वर्मा 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

ब्लागिंग दिवस पर - बच्चे मन के सच्चे

आइए चलें कारगिल से होते हुए लामायुरु के सफ़र पर

कस्तूरी

विवाह उपरांत पढ़ाई

इंसान पेड़ नहीं बन सकता

भारतीय सेना के दो महानायकों को समर्पित - ३ जुलाई

जब शरीर, मन का "ओबीडियेंट सर्वेंट" नही रहता

गिला नही करते...

बाँसुरी

जाएं तो किधर जाएं!

दरख्तों से कई लम्हे गिरेंगे ...

 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

18 टिप्पणियाँ:

Rewa Tibrewal ने कहा…

उम्दा बुलेटिन ,मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

2100 बधाईयाँ भी सलिल जी। आप आये बहार लाये। बहुत खूबसूरत बुलेटिन।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

शगुन वाली बुलेटिन का हिस्सा बनाने के लिए हार्दिक आभार

विभा रानी श्रीवास्तव 'दंतमुक्ता' ने कहा…

गज़ब

SKT ने कहा…

हमारी पत्नी का मनपसंद सीरियल

दिगंबर नासवा ने कहा…

२१०० वी पोस्ट की बधाई ...
आज मेरी ग़ज़ल भी शामिल है इसमें ये गार्ब की बात है ...
बहुत बहुत आभार ...

वाणी गीत ने कहा…

अन्य चैनल के भीषण ड्रामा के बीच यह बिना तनाव का मनोरंजन देता है. सच है.

वाणी गीत ने कहा…

ब्लॉगिंग की मंदी के दौर में भी बुलेटिन 2100 वीं पोस्ट के साथ हाजिर है तो यह मेहनत की बात है.
बधाई पूरी टीम को.

Kavita Rawat ने कहा…

तारक मेहता का उल्टा चशमा अच्छा सीरियल है क्योंकि और कॉमेडी सीरियल की तरह उसमें द्विअर्थी संवाद नहीं है, खामख्वाह की चिल्लपौ नहीं है
बहुत अच्छी प्रस्तुति और बुलेटिन लिंक्स

अर्चना तिवारी ने कहा…

केतना बढ़िया बात बोले हैं बाबूमोशाय 😂

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

आभार सभी पाठकों का!

सदा ने कहा…

आपकी प्रस्तुति और लेखन शैली हमेशा ही निःशब्द कर देती है ...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सभी पाठकों और पूरी बुलेटिन टीम को २१०० वीं पोस्ट की हार्दिक बधाइयाँ |

ऐसे ही स्नेह बनाए रखिए |



सलिल दादा को सादर प्रणाम |

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

बिहारी ब्लागर और उनकी टीम को 2100 वीं पोस्ट पर हार्दिक बधाई . सुविचारित क्रम चलता रहे !

Amit Mishra 'मौन' ने कहा…

बहुतै बढ़िया प्रस्तुति... हमरी रचना (गिला नही करते) को इहाँ स्थान देने के लिये बहुतै धन्यवाद रहेगा

उषा किरण ने कहा…

आभार !!

मनोज भारती ने कहा…

२१ का अपना बड़ा महत्व है! २१००सौंवीं पोस्ट पर सलिल जी का आना सुखद लगा ।

Unknown ने कहा…

नमस्कार
मैं विवियन Regobert हूं
जो एचआईवी है और इलाज की जरूरत के लिए इस टिप्पणी पोस्टिंग कर रहा हूं
Dr Muli जोनाथन हर्बल इलाज है १००% गारंटी यकीन है कि आप एचआईवी का इलाज ।
वह किसी भी प्रकार की बीमारी का इलाज कर सकते हैं ।
मेरे पति और मैं 9 से अधिक वर्ष के लिए एचआईवी था ।
मैं तो बीमार था और मेरा वायरल लोड था > २२५,००० कॉपियां/
मैं कैसे वह इतने सारे लोगों को ठीक किया है और कितना वह कई व्यक्तियों को ऑनलाइन मदद मिली है पर डॉ Muli जोनाथन ऑनलाइन के बारे में एक पोस्ट देखा
तो मैंने उससे संपर्क किया और उसे अपनी स्थिति समझाए
वह मुझे अपने हर्बल दवा भेजने का वादा किया और 4days के बाद मैं हर्बल चिकित्सा मेरे पति प्राप्त है और मैं 10days के लिए हर्बल दवा करते थे और फिर एक फिर से परीक्षण के लिए चला गया
और अब हम एचआईवी निगेटिव हैं
तुम मेरे परिवार को शांति बहाल करने के लिए धंयवाद डॉ Muli जोनाथन
मैं इस गवाही साझा कर रहा हूं क्योंकि मैं डॉ Muli जोनाथन वादा किया है कि मैं गवाही देंगे के बाद मैं ठीक हो गया है ।
आप Dr Muli योनातन के माध्यम से पहुंच सकते हैं:
mulijonathanherbal@gmail.com
कॉल/Whatsapp: + २३४९०३८५४४३०२

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार