Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 19 जुलाई 2018

आज़ादी के पहले क्रांतिवीर की जन्मतिथि और ब्लॉग बुलेटिन


नमस्कार साथियो,
बंधुओ! उठो! उठो! तुम अब भी किस चिंता में निमग्न हो? उठो, तुम्हें अपने पावन धर्म की सौगंध! चलो, स्वातंत्र्य लक्ष्मी की पावन अर्चना हेतु इन अत्याचारी शत्रुओं पर तत्काल प्रहार करो. ये वो घोष है जो 29 मार्च 1857 को बैरकपुर की संचलन भूमि में गूंजा था. आज, 19 जुलाई को इस घोष के बाद प्रथम स्वतंत्रता आन्दोलन की लौ भड़काने वाले मंगल पांडे का जन्मदिन है. 5वीं कंपनी की 34वीं रेजीमेंट के 1446 नं. के सिपाही वीरवर मंगल पांडे को तत्कालीन सर्वाधिक प्रसिद्द नारा मारो फिरंगी को का जन्मदाता और आज़ादी का प्रथम क्रांतिकारी माना जाता है. उनका जन्म 19 जुलाई 1827 को उत्तर प्रदेश के बलिया ज़िले के नगवा गाँव में हुआ था. इनके पिता का नाम श्री दिवाकर पांडे तथा माता का नाम श्रीमती अभय रानी था. अंग्रेजों की गुलामी में सोये पड़े भारतवासियों को जगाने का काम मंगल पांडे ने किया. उनके द्वारा बैरकपुर में दो अंग्रेजों की बलि लेने के साथ ही सन 1857 के स्वाधीनता संग्राम का आरम्भ हुआ.


देश की आज़ादी के पहले क्रांतिवीर को उनके जन्मदिन पर बुलेटिन परिवार की तरफ से श्रद्धा-सुमन अर्पित हैं.


++++++++++













5 टिप्पणियाँ:

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ संध्या राजा साहब
नमन महामना मंगल पाण्डेय जी को
सधी हुई बुलेटिन
आभार
सादर

शिवम् मिश्रा ने कहा…

प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के पहले क्रांतिवीर मंगल पाण्डेय जी को सादर नमन |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति

Harsh Wardhan Jog ने कहा…

मंगल पाण्डे को नमन. 'गुप्तकाशी'को शामिल करने के लिए शुक्रिया.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार