Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 22 नवंबर 2018

एहसासों के दीप जलाना, अच्छा है पर कभी-कभी - ब्लॉग बुलेटिन


नमस्कार दोस्तो,
एक स्व-रचित रचना के साथ आज की बुलेटिन. आशा है कि दोनों पसंद आयेंगे आपको.
+
एहसासों के दीप जलाना, अच्छा है पर कभी-कभी
बीते लम्हे याद दिलाना, अच्छा है पर कभी-कभी.

शब्द तुम्हारे जादू जैसे, सम्मोहित कर जाते हैं,
दिल को बातों से बहलाना, अच्छा है पर कभी-कभी.

चाँद सितारे, फ़ूल और कलियाँ, तुमको घेरे रहते हैं,
हमें छोड़ सबसे मिल आना, अच्छा है पर कभी-कभी.

जो पल गुज़रे संग में तेरे, यादें बन कर महक रहे,
यादों में आँखें भर आना, अच्छा है पर कभी-कभी.


++++++++++









3 टिप्पणियाँ:

Digvijay Agrawal ने कहा…

शुभ संध्या...
बेहतरीन रचनाओं का संगम
सादर...

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति।

कविता रावत ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार