Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 20 नवंबर 2018

जीवन का लक्ष्य साधो




बड़े शहर, 
ऊँचे घरों के भीतर
अब नहीं कुनमुनाती सुबह की किरणें,
मोटे पर्दों से उन्हें भीतर आने की इजाज़त नहीं ।
सुबह की किरणें आज भी 
छोटे घरों की खुली खिड़कियों से छनकर,
घर के कोने कोने में,
लक्ष्मी की तरह अपने पदचिन्ह बनाती है,
और बच्चों के सर पर 
गुनगुनी हथेलियाँ रख कहती है,
फिर होगी रात,
फिर सोना और देखना सपने,
अभी तो उठो
और जीवन का लक्ष्य साधो ।

 
तुम्हारे साथ चलते हुए
चुनूँगी मैं वो सीधे रास्ते
जिसपर बेशक़ हों हजार-हजार गड्ढे
चाहे हो ऊंची-नीची , ऊबड़-खाबड़
और पथरीली सड़क ..
मैं चल लूँगी , तुम्हारा हाथ थामकर
बिना डरे , बिना रुके
उन सभी दुर्गम रास्तों पर जो सीधे हों
कि !
मैं डरती हूँ उन मोड़ों से
जहाँ से अक्सर मुड़ जाया करती हैं
दो ज़िंदगियाँ ....अलग-अलग रास्तों पर !!!

ए - जज्बाएं - दिल गर मैं चाहूं
हर चीज मुकाबिल आ जाए
दो ग़ाम चलूं मंजिल की तरफ
और सामने मंजिल आ जाए
इस जज्बा -ए - दिल के बारे में
एक मशविरा तुमको देती हूं
ए शमां भड़ककर गुल होना
जब रंग पे महफ़िल आ जाए
नहीं जानते शमां को भड़ककर गुल होने में क्या मजा आया होगा, यह तो वही जाने ----- हम तो बस इतना जानते हैं कि जिन राहों पर शमां हमें छोड़ गई थी, हम अब भी उन्हीं रास्तों पर खड़े हैं ----- लगता है वो शमां अचानक से आकर फिर मेरी राहों को रोशन करेगी और हौले से आकर कहेगी -------"पगली ---!! मैं कहीं गई थोड़े ही थी--- मैं तो यहीं थी , तुम्हारे पास" -

6 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति।

anshumala ने कहा…

बुलेटिन में मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद |

Digvijay Agrawal ने कहा…

वाह...
शानदार बुलेटिन...
सादर...

Unknown ने कहा…

वाह
बहुत शानदार बुलेटिन।

बुलेटिन में मेरी भी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद |

Anita ने कहा…

पठनीय सूत्रों का परिचय देता सुंदर बुलेटिन..आभार !

Anita saini ने कहा…

बहुत ही सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति 👌

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार