Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 7 अक्तूबर 2018

कुंदन शाह जी की प्रथम पुण्यतिथि

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |


आज ७ अक्तूबर है ... साल भर पहले आज ही के दिन मशहूर निर्देशक कुंदन शाह जी का निधन हुआ था | 

कुंदन शाह (जन्म:19 अक्तूबर 1947 - मृत्यु: 7 अक्तूबर 2017) एक भारतीय फिल्म निर्देशक और लेखक थे। वह अपनी कॉमेडी फ़िल्म जाने भी दो यारों (1983) और 1985-86 की टीवी श्रृंखला नुक्कड़ के लिए सबसे ज्यादा जाने जाते हैं। उन्होंने भारतीय फिल्म और टेलिविज़न संस्थान से निर्देशन सीखा। '‘जाने भी दो यारो’' फिल्म के लिये पहला और एकमात्र राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया था। उन्होंने ने 2015 में राष्ट्रीय पुरस्कार लौटा दिया था।

1988 में उन्होंने हास्य धारावाहिक वागले की दुनिया का निर्देशन किया। यह कॉर्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण के आम आदमी के किरदार पर आधारित था। उन्होंने 1993 में शाहरुख खान अभिनीत कभी हां कभी न के साथ मुख्यधारा की फ़िल्मों में वापसी की। 2000 में आई उनकी प्रीति जिंटा और सैफ अली खान अभिनीत फिल्म क्या कहना टिकट खिड़की पर सफल रही थी। इसके बाद बॉबी देओल और करिश्मा कपूर अभिनीत हम तो मोहब्बत करेगा (2000) और रेखा, प्रीति और महिमा चौधरी अभिनीत दिल है तुम्हारा (2002) सफल नहीं रही। 

ब्लॉग बुलेटिन टीम और हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से आज हम सब उनको नमन करते हैं |

सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

445. मिला ही नहीं

घर तोड़ने वाली स्त्रियां

महेश चन्द्र पुनेठा की कविताएँ

हिंदी साहित्य का इतिहास : सामाजिक परिस्थिति

विपरीत विचारों में होता आकर्षण

आमंत्रण

महाभारत की लोककथा - भाग - 53

विदेश नीति में बड़े फैसलों की घड़ी

भगर के उत्तपम

भगवान और भगवान की कृपा उतनी दुर्लभ नहीं है जितना हम समझते हैं

क्रांतिकारियों की शक्ति स्रोत - दुर्गा भाभी की ११६ वीं जयंती

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

6 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

नमन कुन्दन शाह जी को। सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति।

Asha Saxena ने कहा…

उम्दा सजा ब्लॉग मंच |
मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

sadhana vaid ने कहा…

बहुत सुन्दर सूत्रों से सजा आज का बुलेटिन ! मेरी रचना 'आमंत्रण' को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शिवम् जी !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Jyoti Dehliwal ने कहा…

कुंदन शाह जी को नमन। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, शिवम जी।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार