Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 21 अक्तूबर 2018

विरोधाभास - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

एक आदमी में हम देखते हैं कि वह चोर भी है, बेईमान भी है, फिर भी सफल हो रहा है।
तो हमें बड़ी अड़चन होती है कि क्या मामला है?
क्या भगवान चोरों और बेईमानों को सफल करता है? और एक आदमी को हम देखते हैं कि ईमानदार है, चोर भी नहीं है और असफल हो रहा है और जहां जाता है, तो ऐसे आदमी कहते हैं, सोना छुओ तो मिट्टी हो जाता है; कहीं भी हाथ लगाओ, असफलता हाथ लगती है। क्या मामला है?
मामला इस वजह से है, क्योंकि प्रत्येक आदमी अच्छे और बुरे का जोड़ है। जो आदमी चोर है, बेईमान है वह सफल हो रहा है, क्योंकि सफलता के लिए जिन अच्छे कर्मों का होना आवश्यक है साहस, दांव, असुरक्षा में उतरना, जोखिम–वे उसमें हैं; जिसको हम कहते हैं, ईमानदार आदमी और अच्छा आदमी असफल हो रहा है। न जोखिम, न दांव, न साहस, वह घर बैठकर सिर्फ अच्छे रहकर सफल होने की कोशिश कर रहे हैं। वह बुरा आदमी दौड़ रहा है। अच्छा आदमी बैठा है। वह बुरा आदमी पहुंच जायेगा। दौड़ रहा है, कुछ कर रहा है, और ये दोनों मिश्रित हैं।
हर आदमी एक मिश्रण है, इसलिए इस जगत में इतने विरोधाभास दिखायी पड़ते हैं। अगर कोई बुरा आदमी भी सफल हो रहा है और किसी तरह का सुख पा रहा है तो उसका अर्थ है कि उसके पास कुछ अच्छे कर्मों की सम्पदा है। और अगर कोई अच्छा आदमी भी दुख पा रहा है तो जान लेना, उसके पास बुरे कर्मों की सम्पदा है।

महावीर वाणी, भाग-२, प्रवचन#३३ ओशो

सादर आपका
शिवम् मिश्रा 

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ 

साईकिल पर कोंकण यात्रा भाग ३: सातारा- कराड- मलकापूर (११४ किमी)

शाश्वत गुनाहगार ‘कॉमन मैन’ और सदा-निष्पाप वी. आई. पी.

एक गुनगुनी सुबह

कहाँ कमी रह गई

शेक्सपियर सही कहे थे कि नाम में क्या धरा है?

नाम जपत मंगल दिसि दसहूँ !

गठबंधन

मिर्च का धुआँ लगा जोर से छींक नाक कान आँख जरूरी है करना जमाने के हिसाब की अब ठीक

रावण -- एक विचार ...

मुनिया की रंगोली

आर्ज़ी हुक़ूमत-ए-आज़ाद हिन्द का ७५ वां स्थापना दिवस

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

7 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

परिभाषायें बदल रही हैं समय के साथ अच्छा बुरा है या बुरा अच्छा है बहस जारी रहनी चाहिये। काम करने वाले बहस में कहाँ पड़ते हैं ना पढ़ने में दिखायी देते हैं ना लिखने में। उनका काम जारी है इसी लिये देश चल रहा है :)

सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति शिवम जी और आभार भी 'उलूक' की मिर्च के धुऐं को भी जगह देने के लिये।

anuradha chauhan ने कहा…

सुंदर बुलेटिन प्रस्तुति सभी रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई मेरी रचना को बुलेटिन प्रस्तुति में स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार शिवम् जी

Meena Bhardwaj ने कहा…

विचारोत्तेजक भूमिका के साथ बहुत बढ़िया लिंक्स संयोजन ।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

शुक्रिया भाई।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

विकास नैनवाल ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति। आपने सही कहा। हाथ पाँव मारने जरूरी हैं। काम न किया तो क्या किया। काम करोगे तो कुछ न कुछ हासिल आएगा ही।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार