Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 6 अगस्त 2018

हिरोशिमा दिवस और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार। 
हिरोशिमा दिवस (अंग्रेज़ी: Hiroshima Day) '6 अगस्त' को कहा जाता है। अमेरिका ने 6 अगस्त, 1945 के दिन जापान के हिरोशिमा नगर पर ‘लिटिल बॉय’ नामक यूरेनियम बम गिराया था। इस बम के प्रभाव से 13 वर्ग कि.मी. में तबाही मच गयी थी। हिरोशिमा की 3.5 लाख की आबादी में से एक लाख चालीस हज़ार लोग एक झटके में ही मारे गए। ये सब सैनिक नहीं थे। इनमें से अधिकांश साधारण नागरिक, बच्चे, बूढ़े तथा स्त्रियाँ थीं। इसके बाद भी अनेक वर्षों तक अनगिनत लोग विकिरण के प्रभाव से मरते रहे। अमरीका इतने पर ही नहीं रुका। उसे एक अन्य प्रकार के बम के प्रभावों को अभी और आज़माना था। इसलिए इस अमानवीय विनाश के तीन दिन बाद ही 9 अगस्त को ‘फ़ैट मैन’ नामक प्लूटोनियम बम नागासाकी पर गिराया गया, जिसमें अनुमानित 74 हज़ार लोग विस्फोट व गर्मी के कारण मारे गए। इनमें भी अधिकांश निरीह नागरिक थे।


~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~













आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।। 

5 टिप्पणियाँ:

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ प्रभात
मृतक भी शहीद ही कहलाए जाएँगे
सादर नमन
आभार
सादर

शिवम् मिश्रा ने कहा…

हिरोशिमा दिवस पर सभी शहीदों और प्रभावित जापानी नागरिकों को सादर नमन।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर सूत्र चयन। सुन्दर प्रस्तुति हर्षवर्धं। हीरोशिमा दिवस पर शहीदों को नमन।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

हर्ष जी, आपका और ब्लॉग बुलेटिन का हार्दिक आभार !

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

अच्छी लगती हैं कई रचनाएं, पर जब वहाँ जाने पर दरवाजा बंद मिलता है तो कोफ़्त होती है :-(
अब क्यों जाए कोई अपनी टिपण्णी ले कर वहाँ ? ये एक बड़ा कारण है ब्लागों के अलोकप्रिय होने का !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार