Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 14 अगस्त 2018

शहीदों की भाषाहीन सिसकियाँ




हम आज़ाद हो गए  ?
कब हुए ?
और किससे ?

आज हिंदी आती हो 
या न आती हो,
कोई बात नहीं,...
बच्चा रोता है अंग्रेजी में,
माँ चुप कराती है अंग्रेजी में,
रुआब है यह कहने में 
कि आजकल की शिक्षा कितनी आधुनिक है,
फर्राटे से अंग्रेजी बोलते हैं बच्चे ...
तो प्यारे देशवासियों,
हम अंग्रेजों को भारत से नहीं भगा पाए, हिंदी हमारी मातृभाषा नहीं रही,
जिन्होंने सरफ़रोशी की तमन्ना की थी,
उनका तो मर्डर हो गया,
आज़ादी दिलानेवालों के नाम नहीं जानते ये बच्चे,
क्या फर्क पड़ता है,
अंग्रेजी पर पकड़ अच्छी है 
औऱ यही हर घर की शान है,
बस कहने को हम आज़ाद हैं ।

हाँ, हम आज़ाद हैं,
परम्पराओं को तोड़ने में,
समयानुसार रूढ़िवादी होने के लिए,
हर सीख को नकारने के लिए,
सारे इल्ज़ाम ख़ामोशो के सर मढ़ने के लिए,
कुछ भी,
कभी भी,
कहीं भी ... कहने और करने के लिए ।

एक आम दिवस है यह स्वतंत्रता दिवस,
अतीत अपनी जगह है,
वर्तमान उजागर है,
शहीदों की सिसकियाँ भाषा हीन हैं ।


मेरी संवेदना : डरा हुआ हूँ उनसे जिन्होंने.....

स्टेशन नगरीय गढ़ों के गेट होते हैं और गाँवों के लिए ...

कडुवा सच ...: नवाबी ठाठ

पहलू: ओ मेरी मां

डायरी के पन्नों से: भक्ति करे कोई सूरमा

नीरज: किताबों की दुनिया - 190

भीड़ जयचंदों की क्यों फिर देश से जाती ... - स्वप्न मेरे

अनुभूति / Anubhuti...: यति !!

'आहुति': सिर्फ तुम्हे देखना चाहती हूं..

SADA: उत्सव मनाना तुम !!!


6 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

शहीदों की सिसकियाँ भाषाहीन हैं। स्वतंत्र हो लेने की जद्दोजहद जारी है जारी रहे। सुन्दर सूत्रों से भरी स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या बुलेटिन।

अजय कुमार झा ने कहा…

हमेशा की तरह सामयिक है और सटीक भी दीदी | लिंक्स पर जाकर अब एक एक पोस्ट भी पढ़ डालते हैं |

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

ये सामयिक रचना स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर बहुत कुछ कहती है ।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी सामयिक बुलेटिन प्रस्तुति
सभी को स्वतंत्रता दिवस शुभावसर पर हार्दिक शुभकामनाएं

Digamber Naswa ने कहा…

बहुत सार्थक बुलेटिन ...
आभार मेरी रचना को जगह दी आपने ...

Anita ने कहा…

स्वतन्त्रता दिवस पर सार्थक व सुंदर रचनाओं का संयोजन..आभार मुझे भी इसमें शामिल करने के लिए..

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार