Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 30 अगस्त 2012

अगर यही जीना हैं तो फिर मरना क्या हैं - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

आज आप को एक कविता सुनाने का मन है ... बहुत पहले नेट पर पढ़ी थी ... कवि का नाम तो पता नहीं चला पर कवि की बात दिल को छू गई थी !

लीजिये आप भी पढ़िये ...

शहर की इस दौड में दौड के करना क्या है?
यही जीना हैं दोस्तों... तो फिर मरना क्या हैं?
पहली बारिश में ट्रेन लेट होने की फ़िकर हैं......भूल गये भींगते हुए टहलना क्या हैं.......
सीरियल के सारे किरदारो के हाल हैं मालुम......पर माँ का हाल पूछ्ने की फ़ुरसत कहाँ हैं!!!!!!
अब रेत पर नंगे पैर टहलते क्यों नहीं........?????
१०८ चैनल हैं पर दिल बहलते क्यों नहीं!!!!!!!
इंटरनेट पे सारी दुनिया से तो टच में हैं.......लेकिन पडोस में कौन रहता हैं जानते तक नहीं!!!!
मोबाईल, लैंडलाईन सब की भरमार हैं.........ज़िगरी दोस्त तक पहुंचे ऐसे तार कहाँ हैं!!!!
कब डूबते हुए सूरज को देखा था याद हैं??????
कब जाना था वो शाम का गुजरना क्या हैं!!!!!!!
तो दोस्तो इस शहर की दौड में दौड के करना क्या हैं??????
अगर यही जीना हैं तो फिर मरना क्या हैं!!!!!!!

पता नहीं हम मे से कितने ठीक ऐसे ही मर मर कर जी रहे है !!??

सादर आपका 


================================= 
















=================================

अब आज्ञा दीजिये ... 

जय हिन्द !!

10 टिप्पणियाँ:

abhi ने कहा…

भैया आपको सच में नहीं पता है या मजाक कर रहे हैं..ये तो 'लगे रहो मुन्नाभाई' फिल्म से है....देखिये इस विडियो को -

http://youtu.be/TMVVUxJGEy4

शिवम् मिश्रा ने कहा…

मुझे सच मे नहीं मालूम था ... आभार इस जानकारी के लिए ... साथ साथ भैया इसके लेखक के बारे मे भी कुछ बता दो तो बड़ा उपकार होगा !

HARSHVARDHAN ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता है । धन्यवाद आपका जो इस कविता को साझा किया । शुभरात्रि ।

Dr. Zakir Ali Rajnish ने कहा…

शिवम भाई, दुखती रग पर उंगली रख दी है, पर किया क्‍या जाए। इस सुंदर चर्चा के लिए बधाई।
............
आश्‍चर्यजनक किन्‍तु सत्‍य! हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन : अंग्रेजी अखबार के पहले पन्‍ने की पहली खबर!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

गर्मागर्म सूत्र...बहुत रोचक...

आशा बिष्ट ने कहा…

achhe links

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कविता बहुत कुछ कह गई ...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

गज़ब मामला है भाई.......

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

:)))).

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार