Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 13 सितंबर 2015

खुशहाल वैवाहिक जीवन का रहस्य - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

एक बार बंता ने संता से कहा, तुम्हारे खुशहाल वैवाहिक जीवन के पीछे क्या राज है?

संता ने कहा, हमें अपने जीवन साथी के साथ प्यार से जिम्मेवारियां बाँटनी चाहिए, एक दूसरे का आदर करना चाहिए, तब कोई समस्या नहीं रहती!

बंता ने कहा क्या तुम थोड़ा खुल कर बता सकते हो?

संता ने कहा, जैसे मेरे घर में सारे बड़े मुद्दों पर में ही निर्णय लेता हूँ, जबकि सारी छोटी छोटी बातों के निर्णय मेरी बीवी लेती है हम एक दूसरे के निर्णयों पर कभी हस्तक्षेप नहीं करते!

मैं कुछ समझा नहीं! बंता ने कहा, थोड़ा उदाहरण दे कर बताओ, संता ने कहा छोटी छोटी बातें जैसे हमें कौन सी कार खरीदनी है, कितना पैसा बचाना है, कब घर जाना है, कब बाजार जाना है, कौन सा सोफा, एयर कंडिशनर कौन सा रफ्रिज्रेटर खरीदना है, महीने का खर्चा, नौकरानी रखनी है या नहीं वगैरा वगैरा!

मेरी पत्नी ही इन सबका निर्णय लेती है मैं उसके निर्णयों से सहमत हो जाता हूँ!

बंता ने पूछा तब तुम्हारी क्या भूमिका है?

संता ने कहा मेरे निर्णय हमेशा बड़े मुद्दों पर होते हैं जैसे,अमेरिका को इराक पर हमला करना चाहिए,क्या अफ्रीका को अपनी अर्थव्यवस्था बढ़ानी चाहिए,क्या सचिन को सन्यास वापस लेना चाहिए वगैरा वगैरा, और  तुम्हें ये सुनकर हैरानी होगी, कि मेरी बीवी कभी भी मेरे फैसलों का विरोध नहीं करती!

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

हिन्दी की पोषण

इंसान बन के रह सकूं तो इत्मीनान हो ...

ओपिनियन पोल (Opinion Polls ) का उपयोग भर्मित करने के लिए किया जाता है 

इश्क़ को ज़ब से बहाने आ गए

फेयरनेस क्रीम, आर्यत्त्व और नासमझी

ज्ञान-विज्ञान और मानवीय संघर्ष...1

अमर शहीद जतिन नाथ दास जी की ८६ वीं पुण्यतिथि

Twitter (चिचियाते चिरोटो )

हास्यास्पद विरोध, लचर दलील

चिलम पी है चिलम

सच कहूँ ?

जब मोबाइल को चैन से बांध कर सो गया मैं !

विकास के आयाम : सपने और यथार्थ! (सोनभद्र संगोष्ठी )

गुनाह करने का आजकल बहुत बड़ा ईनाम होता है

कौन शर्मिदा होगा...?

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति । खुशहाल वैवाहिक जीवन होना ही अपने आप में एक रहस्य है और शिवम जी आपने आज रहस्य के रहस्य से पर्दा उठाने का प्रयास किया है । साधू साधू । 'उलूक' के सूत्र 'गुनाह करने का आजकल बहुत बड़ा ईनाम होता है' को आज के बुलेटिन में स्थान दिया बहुत बहुत आभार ।

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर और रोचक बुलेटिन...आभार

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर और रोचक बुलेटिन...आभार

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी सार्थक बुलेटिन प्रस्तुति
आभार!

Kavita Rawat ने कहा…

सभी को हिन्दी दिवस (हिंदी पर्व) की हार्दिक शुभकामनायें!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Digamber Naswa ने कहा…

Rochak blog bulletin charcha .... Mujhe Shamil karne ka bahut bahut abhaar ...

Hemant Modh ने कहा…

इस घर में बहुत शांति है? मित्र के पूछने पर गृह स्वामी ने घर में लगी तख्ती की और इशारा किया लिखा था : इस घर का में स्वामी हूँ ! आज्ञा से: मिसेस मोढ़...
Hindi Blog: www.hemantmodh.com

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार