Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

बुधवार, 24 जुलाई 2019

ब्लॉग बुलिटेन-ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019 (इक्कतीसवां दिन) लघुकथा




एक लकीर खींची थीसामने, और पूछ रही थी वह -
तैयार हो दौड़ने के लिए ?
उसने बड़े रोचक अंदाज में उसे देखा, और कहा -
पंख दे दो, तो उड़के भी दिखा सकती हूँ  ... 
समय ने पंख दिए, या विभा जी ने खुद गढ़ लिए, जो भी हो, आज उनका परिचय क्षेत्र बड़ा है, कार्यक्षेत्र बड़ा है,  ... जितना कहूँ, कम होगा।  
आज इस प्रतियोगिता में उनकी एक लघुकथा -



तन पर भारीपन महसूस करते अधजगी प्रमिला की आँख पूरी तरह खुल गयी। भादो की अंधेरिया रात और कोठरी में की बुझी बत्ती में भी उसे उस भारी चीज का एहसास उसके गन्ध से हो रहा था, "कौन है ?" सजग होकर परे हटाने की असफल प्रयास करती पूछी।
"मैं! मुझे भूल गई?"
" तुझे इस जन्म में कैसे भूल सकती हूँ.. तेरे गन्ध को भली-भांति पहचानती हूँ..!"
"फिर धकिया क्यों रही है?"
"सोच-समझने की कोशिश कर रही हूँ, तुझे मेरी याद इतने वर्षों के बाद क्यों और कैसे आई?"
"मैं तेरा पति हूँ!"
"तब याद नहीं रहा, जब दुनिया मुझे बाँझ कहती रही और मेरा इलाज होता रहा.. तेरे इलाज के लिए जब कहती तो कई-कई इल्ज़ाम मुझपर तुमदोनों माँ-बेटे लगा देते!"
"इससे हमारा रिश्ता तो नहीं बदल गया या तुझपर से मेरा हक़ खत्म हो गया?"
"हाँ! हाँ.. बदल गया हमारा रिश्ता.. खत्म हो गया मुझपर से तेरा हक़..," चिल्ला पड़ी प्रमिला,"जब तूने दूसरी शादी कर ली और उससे भी बच्चा नहीं हुआ तो तूने अपना इलाज करवाया और उससे बेटी हुई।"
"तुझे भी जरूरत महसूस होती होगी?"
"जिस औरत को तन की दासता मजबूर कर देती है, वह कोठे पर बैठी रह जाती है।"
"तुझे बेटा हो जाएगा! तेरा ज्यादा मान बढ़ जाएगा..!"
"तेरी इतनी औकात कि तू मुझे अब लालच में फँसा सके..!" पूरी ताकत लगा कर परे धकेलती है और पिछवाड़े पर पुरजोर लात लगा कमरे से बाहर करती हुई चिल्लाती है, "दोबारा कोशिश नहीं करना, वरना काली हो जाऊँगी..!"

40 टिप्पणियाँ:

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

बहुत गहरी बात कही कहानी के माध्यम से विभा जी आपने ...इसी को कहते हैं अपने दम पर जीना 👌👌

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत-बहुत धन्यवाद आपका

nayee dunia ने कहा…

वाह ! बहुत बढिया जी..

Meena Bhardwaj ने कहा…

समाज की दोहरी मानसिकता पर प्रकाश डालती उम्दा कहानी ।

yashoda Agrawal ने कहा…

बेहतरीन..
शुभकामनाएँ..
सादर नमन..

Sweta sinha ने कहा…

आपकी प्रेरणादायक लघुकथाएँ अमूल्य है दी।
सामान्य दैनिक जीवन से उद्धरित सूक्ष्म अवलोकन सराहनीय होती है।
शुभकामनाएँ और अशेष बधाईयाँ दी।

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

हार्दिक आभार आपका

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष संग शुभकामनाएं बहना

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष संग असीम शुभकामनाएं छोटी बहना

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष संग शुभकामनाएं छूटकी
हार्दिक आभार आपका

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

जिंदगी तेरे कितने अफसाने .......
प्रेरणादायक लघुकथा !

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष संग शुक्रिया बबुआ
ब्लॉग जगत से मिला अनोखा भाई

संध्या शर्मा ने कहा…

प्यारी दिदिया😍
और लेखन तो जीवन के हर पहलू से जुड़ा... बाँटते रहिएगा अपने अनुभव का खज़ाना हम सब में। शुभकामनाएं व बधाई हो दी

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष व असीम शुभकामनाओं के संग हार्दिक आभार बहना

वाणी गीत ने कहा…

अपना सम्मान बचाये रखना किसी भी रिश्ते में आवश्यक है.
साहसिक कहानी.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बेहतरीन लघु कथा ।

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

हार्दिक आभार आपका
अखंड सौभाग्यशाली रहें

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सदा सस्नेहाशीष की आकांक्षी
हार्दिक आभार आपका

कविता रावत ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
कविता रावत ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुतियां रही ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता की ! निश्चित ही ब्लॉगर को इससे प्रोत्साहन मिलता है

विश्वमोहन ने कहा…

समाज के एक ऐसे भी चेहरे का पर्दाफाश और परिवर्तन की अंगड़ाई की आहट!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

विभा दी की साहित्य रचना, साहित्यिक गतिविधियाँ और साहित्यिक आयोजनों से कौन अपरिचित है। साहित्य की मुख्य धारा में लगभग सभी विधाओं में इन्होंने अपना योगदान दिया है। इनि हर रचना एक।सोच को जन्म देती है।
प्रस्तुत कथा में विभा दी ने बड़े ही घिनौने मुद्दे को उठाया है किसका परिणाम सदा से स्त्री को उलाहना या प्रताड़ना के रूप में उठाना पड़ा है। इस मुद्दे के विरुद्ध एक प्रतीकात्मक क्रांति के स्वर का घोष करती है यह कथा।

शुभा ने कहा…

बहुत ही गहरी बात कही आपने आदरणीय विभा जी ।यही तो हमारे समाज की दोहरी मानसिकता है ,कमी हमेशा स्त्री में ही ढूँढी जाती है ...। ढेरों शुभकामनाओं सह 🙏

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

जी सहमत
हार्दिक आभार आपका

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

जी
बहुत-बहुत धन्यवाद आपका

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

मेरा सौभाग्य है कि आप जैसा सरल सुलझा सहज अनुज इस जगत में मिला
सस्नेहाशीष संग हार्दिक आभार आपका

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष व असीम शुभकामनाओं के संग बहुत बहुत धन्यवाद आपका

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

यूँ हीं सदा ऊँगली थामे रखियेगा..

संजय भास्‍कर ने कहा…

प्रेरणादायक लघुकथा ... विभारानी श्रीवास्तव यानी मेरी बड़ी माँ कहे या ताई जी ब्लॉगजगत में एक जाना हुआ नाम है ( विभारानी श्रीवास्तव -- सोच का सृजन यानी जीने का जरिया ) विभारानी जी के लेखन की जितनी भी तारीफ की जाए कम है एक से बढ़कर एक हाइकू लिखने की कला में माहिर कुछ भी लिखे पर हर शब्द दिल को छूता है हमेशा ही उनकी कलम जब जब चलती है शब्द बनते चले जाते है ...शब्द ऐसे जो और पाठक को अपनी और खीचते है और मैं क्या सभी विभा जी के लेखन की तारीफ करते है

anshumala ने कहा…

समाज का कोई भी तबका हो बच्चे ना होने पर पहली निगाह स्त्री पर ही उठती हैं और उसके सारे इलाज के बाद ही पति का नंबर आता हैं | कभी सूना नहीं पति के लाईलाज बीमारी होने पर बच्चे के लिए पत्नी को दूसरे विवाह को कहा गया हो | अपना आत्मसम्मान कभी नहीं छोड़ने की सीख देने वाली अच्छी कहानी |

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

पुत्तर जी...

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

हार्दिक आभार आपका

सदा ने कहा…

पंख दे दो, तो उड़के भी दिखा सकती हूँ ...
समय ने पंख दिए, या विभा जी ने खुद गढ़ लिए, जो भी हो, आज उनका परिचय क्षेत्र बड़ा है, कार्यक्षेत्र बड़ा है, ... जितना कहूँ, कम होगा।
जिस विधा में भी देखा आप हमेशा श्रेष्ठ रहीं हैं ....और हम सबकी प्रेरणास्रोत भी .... वंदन 🙏🙏

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

इतने साहस को जो जुटा सके , वहीं अपने अस्तित्व को पूरा मान दे सकेगा, नहीं तो निरपराध बांझ का भार उठाये जीती रहेगी । बहुत सुंदर संदेश ।

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सस्नेहाशीष संग हार्दिक आभार बिटिया

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सदा सस्नेहाशीष की आकांक्षी
हार्दिक आभार आपका

Anuradha chauhan ने कहा…

बहुत सुंदर कहानी दीदी

जवाहर लाल सिंह ने कहा…

जय मां काली! अंतिम पंक्ति पूरी तरह से धारदार है। महिलाओं में इतनी शक्ति आनी ही चाहिए।

जवाहर लाल सिंह ने कहा…

सम्माननीया को सम्मानित कर सम्मान भी धन्य हो जाता है। बहुत बहुत बधाई दीदी!

Jyoti Dehliwal ने कहा…

विभा दी,नारी जीवन के एक ऐसे पहलू को आपने छुआ हैं जिसमें ज्यादातर नारियों की गलती न होने पर भी उन्हें ही दोषी माना जाता हैं। बहुत सुंदर कहानी दी।

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार