Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 1 जुलाई 2019

ब्लॉग बुलिटेन-ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019 (आठवां दिन) कहानी




ज्योति प्रकाश देहलीवाल जी का परिचय उनकी ही कलम से 
" मैं एक गृहिणी हूं। बचपन से ही पढ़ने-लिखने का शौक था। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में लेख एवं कहानियां प्रकाशित। ब्लॉगिंग के माध्यम से मैं अपना यह शौक पूरा कर पा रही हूं। मुझे विश्वास है कि यह ब्लॉग लोगों के मन से अंधविश्वास को दूर करने के, नारी मन को हीनभावना से मुक्त करने के अपने उद्देश्य में सफल होगा और लोगों को बेहतर जिंदगी जीने के लिए प्रेरित करेगा।
 मैं ख़ुशियाँ बाँटना चाहती हूं। मेरी मर्यादाओं के चलते चाहे वे छोटी-छोटी ही क्यों न हो। मुझे लगता है जिसकी उसके साथ, अपने से जितना अच्छा होता है करते जाओ। जिंदगी का क्या भरोसा? कल हो न हो?"
ज्योति जी ने जो हमें दिया है, उसे मैं साझा कर रही हूँ, ताकि ब्लॉग का परिचय क्षेत्र बढ़े -



कहानी- किटी पार्टी | आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल




किटी की सदस्यों को शिल्पा का उनकी किटी पार्टी में शामिल न होना अपने अपमान सा प्रतीत हुआ। जिसे दोपहर में घूमने की फुर्सत हो, खर्च करने के लिए जिसके पास पति की मोटी तनख्वाह हो, वह भला किटी में आने से इंकार कैसे कर सकती हैं?


''दिपा, तुमने शिल्पा से बात की क्या? वो अपनी किटी ज्वाइन कर रहीं हैं न?'' प्रिती ने पूछा। दिपा ने कहा- ''हां, मैंने बात तो की थी। लेकिन शिल्पा ने मना कर दिया। अंजली ने पूछा- 'क्यों? दिपा ने बताया कि,"उसकी इच्छा तो बहुत होती हैं हम सबके साथ इंज्वाय करने की...लेकिन उसके पास वक्त नहीं हैं।'
प्रिती, दिपा, अंजली मध्यमवर्गिय परिवार की हमउम्र महिलाएं हैं। इनकी किटी में पंद्रह महिलाएं शामिल हैं। महीने में एक बार बारी-बारी से कभी किसी के यहां तो कभी किसी के यहां जमा होती हैं। मौज-मस्ती, मेल-मिलाप, दो-चार गेम्स खेलना और नाश्ता-पानी का दौर चलता हैं। महीने में एक बार ही सही, पर हम उम्र सहेलियों के साथ थोड़ी सी गपशप हो जाती हैं और इधर-उधर के सभी के हाल-चाल पता चल जाते हैं। कूल मिला कर माइंड फ्रेश हो जाता हैं। इन लोगों की इच्छा थी कि शिल्पा जो 4-5 महिने पहले दिपा के अपार्टमेंट में रहने आई थी, इनकी किटी ज्वाइन कर ले क्योंकि शिल्पा खानदानी रईस थी। उस के पति बैंक मैनेजर थे। बच्चे अच्छे स्कूल में पढ़ रहे थे और शिल्पा भी पढ़ी-लिखी सलीकेदार महिला थी। ये लोग अपनी किटी में ऐसी ही महिलाओं को जॉइन करवाती थी जिसमें ऐसी खुबियां हो। ताकि उन्हें एक अच्छी सहेली मिले।
लेकिन जैसे ही दिपा ने बताया कि शिल्पा ने किटी जॉइन करने से मना किया हैं तो सभी के तेवर बदल गए। उन्हें ये अपना अपमान सा प्रतीत हुआ क्योंकि शिल्पा ने कहा था कि उसके पास वक्त नहीं हैं। प्रिती ने कहा- 'सब बहाने हैं! ऐसे कौन से काम में व्यस्त रहती हैं मैडम? बर्तन, कपडा और झाडू-पोंछा करने के लिए तो कामवाली बाई हैं ही। सिर्फ़ खाना ही तो बनाना होता हैं। हम सभी के घर में जैसे कोई काम ही नहीं रहता इसलिए किटी जॉइन करते हैं!''
एक आवाज आई- ''सच तो ये हैं कि उसके पति इतनी बड़ी बैंक के मैनेजर हैं, उनकी मोटी तनख्वाह और अपनी खानदानी रईसी का घमंड हैं उसे।''  दूसरी ने कहा- ''तो हम कौन से फक्कड घर से हैं? हमारे पति बिजनेस में हैं तो क्या हुआ, वे भी लाखों कमाते हैं। उपर से बोलती हैं कि वक्त नहीं हैं। आखिर दिन भर करती क्या हैं मैडम?'' तीसरी ने बहुत ही रहस्यमय आवाज में कहा- ''तुम्हें पता हैं, मैंने कई बार शिल्पा को दोपहर दो बजे घर से निकलते और चार-साढ़े चार बजे वापस आते देखा हैं। जब वक्त की कमी हैं तो रोज-रोज दो-ढ़ाई घंटे कहां जाती हैं?'' प्रिती ने कहा- ''मुझे तो लगता हैं कि दाल में जरुर कुछ काला हैं'' ''अरे नहीं पूरी दाल ही काली हैं। बुढ़ी सास को सातवी क्लास में पढ़ने वाली बेटी के भरोसे छोड़कर निकल जाती हैं घूमने फिरने। पतिदेव को तो पता भी नहीं होगा क्योंकि वो तो शाम को 7-8 बजे ही आते हैं। बुढ़ी सास बेचारी किससे बोले? उसे रहना तो बहू के पास ही हैं।''
इतनी देर से दिपा चुपचाप इन लोगों की बाते सुन रही थी। लेकिन अब उसकी सहनशक्ती जबाब दे गई। उसने थोड़ा नाराज होकर जोर से कहा- ''चूप हो जाओ तुम सब! तुम लोगों को शिल्पा के बारे में मालूम ही क्या हैं? जो मन में आए वहीं बोले जा रही हो! मेरा फ्लैट उसके फ्लैट के बिल्कुल सामने ही हैं अत: मुझे उसकी सच्चाई पता हैं। उसकी सच्चाई जानोगे तो खुद के कानों पर विश्वास नहीं होगा। मुझे कई बार महसूस होता हैं कि उसकी महानता के आगे मैं बहुत छोटी हूं।'' सभी महिलाएं दिपा का तमतमाया चेहरा देख कर दंग रह गई क्योंकि दिपा निहायत ही शांत स्वभाव की महिला थी। न किसी के लेने में और न ही किसी के देने में। अंजलि ने पूछा, ''जरा हम भी तो सुने तुम्हारी पडोसन की महानता के किस्से!''

दिपा ने कहा, ''शिल्पा अपनी बुढ़ी सास का पूरा ख्याल रखती हैं।''  एक ने बीच में ही टोक दिया, ''वो तो हम सब भी रखते हैं। इसमें नई बात क्या हैं?'' दिपा ने कहा- ''हमारे और उसके ख्याल रखने में बहुत फर्क हैं। उसकी सास अपने हाथ से नहा भी नहीं सकती। शिल्पा खुद अपनी सास को नहलाकर साड़ी पहनाकर चोटी आदी बनाती हैं।'' एक आवाज आई- ''क्यों, उनके पास तो बहुत पैसा हैं न! क्या वो सास को नहलाने के लिए कामवाली बाई नहीं रख सकती?'  'अरे, कंजूष होगी' दिपा ने कहा- 'यहीं तो फर्क हैं शिल्पा और हम में! शिल्पा कहती हैं मैं जिस तरह प्रेम और शांती से सास को नहलाती हूं, उतने प्रेम और शांती से कामवाली बाई थोड़े ही नहलाएगी। और मेरे नहलाने से मम्मी जी को जो मानसिक शांती मिलेगी कि मेरा काम स्वयं मेरी बहू करती हैं, इस सोच से उनके दिल को जो तसल्ली मिलेगी वो कमवाली बाई के नहलाने से थोड़े ही मिलेगी? वो उसकी सास के पसंद के हिसाब से ही नाश्ता और खाना बना कर देती हैं। हम लोग तो सास-ससुर का बाथरुम धोने में भी नाक सिकोडते हैं! खुद का तो लैटरीन-बाथरुम हम फ़िर भी धो लेती हैं। लेकिन हमारे घरों में सास-ससूर का और जनरल वाला लैटरीन-बाथरुम कामवालियां ही धोती हैं। लेकिन तुम लोगों को जानकर हैरानी होगी कि उसकी सास के कपड़े कई बार भर जाते हैं। वो गंदे कपड़े भी शिल्पा खुद साफ़ करती हैं और वो भी प्रेम से बिना किसी बडबड के!'
'अच्छा-अच्छा ठीक हैं! जब बुजुर्ग सास की इतनी ही फ़िक्र हैं तो हर रोज दोपहर दो बजे से लगभग साड़े-चार बजे तक मैडम कहां जाती हैं?' एक महिला ने तंज कसा। दिपा बोली-'दो से साड़े-चार बजे तक उसकी सास सामान्यत: सोती हैं। इसलिए वो...' 'हां, हां...बताओ न कि सैर-सपाटे के लिए जाती हैं' एक और महिला हंसते हुए बोली। दिपा तमतमाकर बोली 'मैंने कहा न चूप हो जाओ तुम सब! दोपहर में शिल्पा कहां जाती हैं यह पता करने के लिए तुम लोगों को मेरे साथ चलना होगा। वहीं चल कर अपनी आंखों से देख लेना। सिर्फ़ दो-तीन लोग ही साथ चलेंगे क्योंकि कहीं भी एक साथ इतने लोगों का जाना ठीक नहीं हैं।' दिपा के साथ कल दोपहर को प्रिती और अंजलि जाएगी, यह तय हुआ।

दूसरे दिन तय जगह पर तीनों सहेलियां मिली और थोड़ी दुरी बनाकर शिल्पा की कार का पिछा करने लगी। दिपा ने बुर्का पहन लिया था ताकि शिल्पा उसे पहचान न सके। प्रिती और अंजली को तो शिल्पा पहचानती नहीं थी। एकाध किलोमीटर बाद शिल्पा की कार एक बड़े अस्पताल के सामने रुकी। अंजली ने कहा- 'जरुर अस्पताल के किसी डॉक्टर से चक्कर होगा।' दिपा ने फ़िर आंखे तरेरी और चुपचाप उसके पिछे आने का इशारा किया। उन्होंने देखा कि शिल्पा एक जनरल वार्ड में पहुंची। उसके वहां पहुंचते ही, 'दीदी आ गई...दीदी आ गई' ऐसी दो-तीन आवाजे आई। वॉर्ड के मरीजों और उनके परिजनों के चेहरे पर एक तरह की खुशी इन तीनों ने भी स्पष्ट रुप से महसूस की।
शिल्पा ने अपनी बैग से बिस्कीट और फल निकालकर मरीजों में बाट दिए। दो मरिजों के परिजन बैग लेकर बाहर जाने के लिए तैयार खड़े थे। एक ने कहा- 'दीदी, आधी घंटे बाद पापा को यह दवाई और नारीयल पानी देना हैं और ये लीजिए नारियल पानी के पैसे।' और वो पैसे देकर चला गया। दूसरे की पत्नी को ग्लुकोज चढ़ रहा था। उसने कहा कि जैसे ही बॉटल खत्म होने को आएगी सिस्टर को बुला लेना। शिल्पा ने उससे कहा, 'तुम बेफिक्र होकर घर जाओं। मैं सव्वा चार बजे तक तुम्हारी पत्नी के पास हूं।'
व्यक्ति कृतज्ञता के भाव से बोला, 'हां दीदी, मेरी पत्नी तो आज ही भरती हुई हैं इसलिए मैं आपको अच्छे से जानता नहीं हूं। लेकिन यहां पर सभी ने मुझे बताया कि आप पिछले कई सालों से हर रोज दोपहर में मरिजों के पास रहती हैं। उनकी देखभाल करती हैं ताकि मरिजों के परिजनों को थोड़ा सा आराम मिल सके और वे अन्य काम निपटा सके। यद्यपि मैं आपको जानता नहीं हूं लेकिन फ़िर भी मेरी पत्नी को आपके भरोसे छोड़ने में थोड़ी सी भी चिंता नहीं हैं।'
शिल्पा बोली 'अच्छा-अच्छा अब जल्दी जाओं। बातों में समय पास हो जाएगा!' उस व्यक्ति के जाने के बाद शिल्पा बाकि मरिजों से भी बाते करने लगी। शिल्पा ने कई सारे चुटकुले सुनाकर माहौल को खुशनुमा बना दिया। यह सब देख दिपा ने प्रिती और अंजली की तरफ देखा तो दोनों की नजरे मारे शर्म के झुकी हुई थी। अब इन लोगों के पास बोलने के लिए एक शब्द भी नहीं था। उन्हें विश्वास ही नहीं हो रहा था कि घर का पूरा काम कर, बुजुर्ग सास की इतनी सेवा करके, खुद के आराम करने का वक्त कोई महिला अनजाने लोगों की सेवा में और वो बिना किसी स्वार्थ के कैसे दे सकती हैं? दिपा ने कहा कि शिल्पा मरिजों को दिए जाने वाले जूस, नारियल पानी या उनके लिए दुकान से कोई दवाई आदि खरिद कर लानी हो तो उसके पैसे ले लेती हैं। क्योंकि ये एक दिन की बात तो नहीं हैं न! दूसरे इससे मरिजों को और उनके परिजनों को भी किसी प्रकार का संकोच नहीं होता। हां, यदी कोई बहुत गरीब हैं तो शिल्पा ये सामान अपने पैसे से भी ले लेती हैं। प्रिती और अंजली को आज जनरल वॉर्ड के सभी मरिजों के चेहरे पर शिल्पा की वजह से जो खुशी देखने मिल रहीं थी, उसकी तुलना में अपनी किटी पार्टी से मिलने वाली खुशी एकदम फिकी महसूस होने लगी। साथ ही एक तरह की ग्लानि भी कि इतनी नेकदिल स्त्री के लिए उन्होंने बिना किसी जानकारी के इतने गंदे और गलत शब्दों का प्रयोग किया था!!

28 टिप्पणियाँ:

yashoda Agrawal ने कहा…

व्वाहहहहह
ज्योति दीदी से परिचय तो था
विस्तृत परिचय आपके माध्यम से मिला...
आभार
सादर नमन

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

वाहः
उम्दा लेखन

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

बहुत सुंदर ...

anshumala ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन कुछ और ब्लॉगर से मिलने का भी माध्यम बना , आभार |

anshumala ने कहा…

उनके ब्लॉग पर फॉलो करने का विकल्प नहीं दिख रहा |

Anita ने कहा…

प्रेरणा का स्रोत बनी एक सुंदर कहानी, ज्योति जी को बहुत बहुत बधाई, समाज को ऐसे ही अपनेपन का अहसास कराने वालों की जरूरत है

Meena sharma ने कहा…

आदरणीया ज्योतिजी की यह कहानी पहले ही पढ़ चुकी हूँ। उनके ब्लॉग की विविधता आश्चर्य में डाल देती है। रांगोली, मेंहदी, पाककला, स्त्रीविमर्श, समसामयिक विषय, कहानी, लेख, रीतिरिवाज.....
मैं उनकी प्रशंसक हूँ जब से उन्हें पढ़ा तभी से !!!

वाणी गीत ने कहा…

ज्योति जी की कहानी के साथ उनके ब्लॉग का परिचय भी मिला.
आभार!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

प्रेरक कहानी।

Anuradha chauhan ने कहा…

प्रेरणादायक कहानी ज्योति बहन को हार्दिक शुभकामनाएं सुंदर बुलेटिन

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

ज्योति जी से मेरा पहला परिचय है। बहुत अच्छा लग रहा है कि नए लोगों और उनकी प्रतिभा से दो चार होने का अवसर मिला। क्योंकि पुराने (हमारे ज़माने के) ब्लॉगर्स को तो भली भाँति जानते हैं।
कहानी बहुत अच्छी है, लेकिन प्रेडिक्टिव और सपाट है। इसे और भी रोचक बनाकर लिखा जा सकता था। उनके लेखन अनुभव का विस्तार नहीं पता, किन्तु संभावनाएं अनंत हैं जिससे किसी भी साधारण कथानक को असाधारण प्रस्तुति में रूपान्तरित किया जा सकता है।
एक और महत्वपूर्ण बात। कदाचित यह कथा जैसी प्राप्त हुई है वैसी ही छपी है। तो इसलिए यह ध्यान देने की बात है कि मात्राओं की त्रुटियाँ पाठन में व्यवधान उपस्थित करती हैं। दीर्घ और ह्रस्व मात्राओं का प्रचुर दोष, यदि कम्प्यूटर के सॉफ्टवेयर के कारण है, तो लेखिका को दुबारा पढ़कर (भेजने से पूर्व) आश्वस्त होना चाहिए।
मुझे इस कहानी ने छुआ क्योंकि यह मेरी कहानी है और मेरी माँ जो लाचार हैं (उतनी नहीं, सिर्फ पैरों से) और मेरी पत्नी जो उनकी सेवा करती रहीं हैं, की झलक मुझे दिखती है।
ज्योति जी से अपने कटु शब्दों के लिए अग्रिम क्षमा याचना सहित, रश्मि दी का आभार।

Sadhana Vaid ने कहा…

ज्योति जी की कहानी आज के सन्दर्भों में बहुत सामयिक एवं प्रासंगिक है ! कहानी का कथानक अत्यंत प्रेरक है एवं सकारात्मक सन्देश देता है ! उनके ब्लॉग पर इन्द्रधनुषी विविधता के दर्शन होते हैं ! हमारी अनंत शुभकामनाएं !

Vaanbhatt ने कहा…

देखिये निन्दारस का अपना आनंद है...किटी का मूल उद्देश्य ही पंचायत है...लेखिका ने इस मूल स्वरुप को अद्भुत तरीके से उठाया है...बधाइयाँ...

रेणु ने कहा…

सुंदर कथा | ज्योति जी ब्लॉग जगत का जाना पहचाना व्यक्तित्व हैं | उनके ब्लॉग से कई हुनर सीखे हैं | नारीवादी दृष्टिकोण को सबल करता उनका ब्लॉग और चिन्तां सराहनीय हैं | हार्दिक बधाई ज्योति बहन |

Jyoti Dehliwal ने कहा…

अंशुमाला दी,मेरे ब्लॉग पर ई मेल सब्सक्रिप्शन का विजेट लगा हुआ है। और आप फेसबुक को लाइक करके भी मेरे सभी पोस्ट्स की जानकारी प्राप्त कर सकती हैं।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

मेरी पढ़ाई मराठी मीडियम से हुई हैं। मराठी और हिंदी के लेखन में मात्राओं का बहुत फर्क हो जाता हैं। यद्यपि अब मैं इस ओर ज्यादा ध्यान दे कर सुधार करने की कोशिश कर रहीं हूं। आपका बहुत बहुत धन्यवाद, इस ओर मेरा ध्यान आकृष्ट करने के लिए।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

वाणी दी, मैं तो आपकी कुछ ब्लॉग पोस्ट पढ़ चुकी हूं। बहुत अच्छा लिखती हैं आप।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

हौसला अफजाई के लिए धन्यवाद, अनिता दी।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

मीना दी,मैं भी आपकी लगभग हरब्लॉग पोस्ट पढ़ती हु। आप भी बहुत अच्छा लिखती हैं।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

बहुत बहुत धन्यवाद, साधना दी।

Ritu asooja rishikesh ने कहा…

ज्योती जी आपके लेखन की विविधता स्वयं में श्रेष्ठ है
आपको शुभकामनाएं

Abhilasha ने कहा…

हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं ज्योति

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ज्योति जी सामाजिक, व्यावहारिक और आज के समय अनुसार सामयिक विषयों पर बख़ूबी अपना रूख स्पष्ट करते हुए लिखती हैं ... हर कहानी, विचार विमर्श में कुछ न कुछ कहने और सामाजिक कुरीति पे प्रहार करती होती है ...
बहुत शुभकामनाएँ हैं उन्हें ...

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

सुंदर और प्रेरक कहानी । ये एक शिल्पा नहीं और भी कई शिल्पा हैं। कामकाजी भी शिल्पा हैंं । ज्योति ही हम भूले नहीं हैं आपकी कलम को ।

Meena Bhardwaj ने कहा…

प्रेरक कहानी ।

संजय भास्‍कर ने कहा…

प्रेरणादायक कहानी ज्योति जी हार्दिक शुभकामनाएं

Jyoti Dehliwal ने कहा…

धन्यवाद, रेणु दी।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

हौसला अफजाई के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, दिगंबर जी।

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार