Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 17 जून 2019

नाम में क्या रखा है - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

जब ऑफिस की पुरानी मैडम ने चपरासी को "ओए" कह के बुलाया,
तो नई मैडम को उसपर तरस आया और बोली, "लोग जाने कहाँ से पढ कर आ जाते हैं, भला 'ओए' कहकर किसी को कभी बुलाते हैं?" "सुनो, मैं शिष्टाचार निभाऊंगी, तुम्हें तुम्हारे नाम से ही बुलाऊंगी।"

चपरासी गदगद हो गया, बोला, "आप सरीखे लोगों का ही हम गरीबों को साथ है, मैडम जी मेरा नाम 'प्राणनाथ' है।"

मैडम जी सकुचाई, पलभर कुछ ना बोल पाई, फिर कहा, "इस नाम से अच्छा न होगा तुम्हें बुलाना, अगर कोई पुकारने का नाम हो तो बताना!"

चपरासी बोला ,"मेरे घर में सब मुझे दुलारते हैं, बीवी से लेकर अब्बा तक सब 'बालम' कह कर पुकारते हैं।"

मैडम की समझ में कुछ न आया, एक नया आईडिया लगाया, बोली, "रहने दो, अब पहेलियां न बुझाओ, मोहल्ले वाले तुम्हें क्या कहते हैं ये बताओ!"

चपरासी बोला, "मैडम जी, सबका हम दिल बहलाते हैं, और मोहल्ले में 'साजन' कहलाते हैं।"

मैडम अब तक ऊब चुकी थी, ऊहापोह में डूब चुकी थी, कहा "मुए, ये सब नाम कहाँ से लिए जाएंगे, तू 'सरनेम' बता उसी से काम चलाएंगे।"

चपरासी बोला, "मैडम जी क्या करूं, दुनिया का सब 'गेम' है, आप 'सरनेम' से बुलाइए, 'स्वामी' मेरा 'सरनेम' है!"

अब मैडम झल्लाई, जोरों से चिल्लाई, " 'ओए' मेरा सिर मत खा, एक कप गरम चाय ले के आ!" 

सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

पगडण्डियों के छलावे

सभी जानते हैं ..उजालों की फितरत

सफेद कोट वाले भगवान से...

मृत्यु दूत

आसमानी पंछियों को भूल जा ...

मेरी कविताएं अनाथ नहीं

जीवन आधारे - वृक्ष हमारे

"चक्रव्यूह"

अंसार क़म्बरी की ग़ज़लें

मुक्तक

आखिरी स्तम्भ

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
 अब आज्ञा दीजिए ... 

जय हिन्द !!!

6 टिप्पणियाँ:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बहुत बढ़िया

वाणी गीत ने कहा…

नाम में कुछ है भी और नहीं भी....

Meena Bhardwaj ने कहा…

बहुत सुन्दर भूमिका और बेहतरीन लिंक्स संकलन ।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

हा हा ... नाम का भी महत्व है ...
आभार मेरी ग़ज़ल को जगह देने के लिए ...

Sadhana Vaid ने कहा…

मजेदार कहानी ! नयी मैडम को भी सारा शिष्टाचार भुला गया यह नाम तो ! बड़ा वज़नदार नाम था ! सुन्दर सूत्रों से सुसज्जित आज का बुलेटिन ! मेरी प्रस्तुति को स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद शिवम् जी !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार