Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 25 जून 2019

ब्लॉग बुलिटेन-ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019 (दूसरा दिन) कहानी




प्रतियोगिता तो अपनी जगह है, हमें इस बात का हर्ष है कि पूरे एक महीने हम चुनिंदा रचनाओं से गुजरेंगे, ज़िन्दगी के नौ रस में भीगेंगे।  
दूसरे दिन का जयघोष वंदना अवस्थी दूबे की कहानी से हम कर रहे, ब्लॉग जगत का एक जाना-माना नाम, जिनको पढ़ने का लोभ संवरण कोई भी साहित्यिक रुझान रखनेवाला नहीं कर सकेगा।  
हमारा यह प्रथम प्रयास आपको कैसा लग रहा, इससे हमें अवश्य अवगत कराइयेगा बंधू :) 




"नमस्ते अम्मां जी"
" कौन? अरे कमला! आओ-आओ"
खुद को समेटती हुई कमला, सुधा जी की बग़ल से होती हुई सामने आई और पूरे श्रद्धाभाव से उनकी चरण-वंदना की.
" आज इस तरफ़ कैसे?"
" मामी के हियां आई थी, उनकी बिटिया का गौना रहा. हम तो पहलेई सोच लिये थे कि लौटते बखत आपसे मिलनई है. "
कमला ने विनीत मुस्कान बिखेरी, और वहीं सुधा जी के सामने ज़मीन पर बैठ गई.
" अरे यहां बैठो न !"
बग़ल में पड़े दीवान पर हाथ ठोंक कर इशारा किया सुधा जी ने. लेकिन कमला सुधा जी के इस आग्रह की असलियत जानती थी, सो उसने फिर खुद को निम्नतर स्तर पर लाते हुए हाथ जोड़ कर उनका आग्रह ठुकरा दिया और
" अरे नीचे कहां? ये कालीन तो बिछा है न, इधरई नीक लगे है बैठना." जैसा अभ्यस्त डायलॉग भी फ़ेंक दिया.
सुधा जी ने भी निश्चिंत निश्वास छोड़ा.
ऊपर बैठने का न्यौता देने के बाद वे हमेशा शंकित हो उठती थीं कि कहीं कोई कमला, श्यामकली, या सुक्खी उनकी बग़ल में बैठ ही न जाये.
" फुल्ली के पापा काल बिहान भये गिर गये रहे अम्मां जी. एतना मना करते हैं उनै लेकिन सुन्तई नईं हैं. "
कमला ने अपने दुख-दर्द सुनाने शुरु कर दिये थे और सुधा भी पूरी चिन्ता के साथ सुन रही थीं.
" अरे रे रे... फिर चोट-वोट तो नहीं लगी? कैसे गिर गये? "
" अब का बताई अम्मां जी.........."
कमला धाराप्रवाह शुरु हो गई थी कमला की कथा रफ़्तार पकड़े, उसके पहले ही सुधा जी ने अपने पैर-दर्द का प्रसंग छेड़ दिया था, बल्कि यूं कहें कि पैर दर्द की बात कमला के कान में डाल दी, और इत्मीनान से चप्पल उतार के सामने पांव फैला लिये . कमला ने भी आदतानुसार सुधा जी का पांव हल्के-हल्के दबाना शुरु कर दिया.
निधि को मालूम था कि अब ऐसा ही होगा. मुफ़्त में कमला-कथा का श्रवण सुधा जी कर ही नहीं सकतीं थीं.
सुधा जी जब चार लोगों में बैठी होती थीं, तो समानता, जाति-भेद जैसे विषयों पर बड़े अच्छे विचार प्रस्तुत करतीं थीं, लेकिन उन्हें व्यवहार में लागू नहीं कर पाती थीं. बस इसीलिये निधि को बड़ी कोफ़्त होती है, सुधा जी के उदारमना भाषणों से. जो कर नहीं सकतीं , उसके लिये झूठी बातें क्या बनाना? सुधा जी की कथनी और करनी में बहुत अन्तर था.
नाश्ता करने बैठतीं तो इस चिंता में कि कहीं निधि ज़्यादा नाश्ता न दे दे, एक खाली प्लेट मंगवातीं, अपनी प्लेट में से थोड़ा सा पोहा निकाल आगे को सरका देतीं और रमा को कहतीं -
" ले रमा , पहले नाश्ता कर ले"
कुछ ऐसे भाव से जैसे मोहन थाल परोस दिया हो.
उतने से नाश्ते को देख के निधि शर्म से पानी-पानी हो जाती.
बची हुई मिठाई हफ़्तों सहेजे रहतीं सुधा जी. जब फ़फ़ूंद दिखाई देने लगती तो बड़े एहसान के साथ कहतीं-
" रमा, ये मिठाई लेती जाना, और हाँ, खाने लायक़ न हो, तो किसी जानवर को डाल देना."
फिर पानी-पानी हो जाती निधि.
कल से रमा चार दिन की छुट्टी पर जा रही थी. रमा के छुट्टी लेने के विचार मात्र से निधि के हाथ-पांव फूलने लगते हैं. निधि को सुबह आठ बजे ऑफ़िस के लिये निकलना होता है, सो सुबह का खाना बनाना उसके लिये मुश्किल था. लिहाजा उसने खाना बनाने के लिये विमला का नाम प्रस्तावित किया तो सुधा जी ने तुरन्त खारिज़ कर दिया. तुरन्त बोलीं-
" अरे! उसका बनाया खाना हम कैसे खा सकते हैं?"
बहुत कोफ़्त हुई थी निधि को. उसी के साफ़ किये बर्तनों में खाना पकाते हैं, उसी का भरा पानी पीते हैं, आटा गूँध सकती है वो, लेकिन खाना नहीं बना सकती!!
समझ में नहीं आतीं निधि को ऐसी बातें.
कई बार निधि ने सुधा जी को समझाने की कोशिश की लेकिन हर बार उसे खुद की समझाइश से ज़्यादा मजबूत सुधा जी के इरादे दिखाई दिये.
छटपटा रही थी निधि सुधा जी को इस घेरे से बाहर लाने के लिये.
सुबह कुमुद दीदी का फोन आया, कि वे कोलकता जा रही हैं, लौटते हुए दो दिन निधि के पास भी रुकेंगीं. निधि की तो जैसे मुँह मांगी मुराद पूरी हो गई. उसे लगा कि अब कुमुद दीदी के साथ मिल के कुछ तो करेगी ही वह.
चार दिन इंतज़ार में बीते . आज कुमुद दीदी यानि सुधा जी की इकलौती बेटी आ गई थीं. कुमुद दीदी की ख़ासियत ये थी कि वे सुधा जी की, मां होने के नाते किसी भी ग़लत बात में हां में हां नहीं मिलाती थीं. बल्कि उन्हें समझाने की भरपूर कोशिश करती थीं.
सुबह शोर-शराबे में बीती. देर से खाना हुआ, तो रात का खाना बाहर खाने का प्लान बना.
खाने-पीने की शौकीन सुधा जी को बाहर खाने से कभी परहेज नहीं रहा है. आज भी सब तैयार होने लगे तो निधि ने चिन्ता जताई -
" दीदी, मम्मी के लिये तो खाना बनवाना होगा न?"
" अरे हां रे. मम्मी, तुम्हारे लिये क्या बनना है? रमा को बता दो. तुम तो होटल में कुछ खाओगी नहीं........."
तिरछी मुस्कान के साथ कुमुद दी ने ऊंची आवाज़ में पूछा.
"क्यों? हम क्यों नहीं खायेंगे? हमारा आज व्रत थोड़े ही है."
सुधा जी ने थोड़े अचरज से पूछा.
" अरे, लेकिन वहां होटल में पता नहीं किसने खाना बनाया हो... ? अब वहां कोई पूछेगा तो नहीं कि कुक किस जाति का है? कोई भी बना सकता है."
कुमुद दी गम्भीर हो के बोलीं.
कोशिश करके हंसी दबानी पड़ रही थी निधि को.
" वैसे मम्मी, तुम तो पता नहीं कहां कहां के होटलों में खाना खा चुकी हो, कुक के बारे में पहले ही पता लगा लेती हो क्या?"
सुधा जी अवाक!
" अरे नहीं भाई. कहीं कोई ऐसा भी करता है?"
" मगर तुम्हें तो ऐसा करना चाहिए. घर में इतनी छुआछूत और बाहर कुछ नहीं? तुम्हारा तो धर्म नष्ट-भ्रष्ट हो गया न?"
" फिर अगर बहर खा सकती हो तो घर में इतना परहेज क्यों?"
कोई जवाब नहीं था सुधा जी के पास.
रात भर पता नहीं क्या सोचती रहीं सुधा जी; लेकिन सुबह निधि ने सुना, विमला से कह रही थीं-
" विमला, रमा जब छुट्टी पर जाये, तब तू खाना बना दिया कर. निधि को दिक्कत हो जाती है इत्ते सबेरे से......"
निधि जानती है, किसी भी इंसान को एक पल में नहीं बदला जा सकता. लेकिन बदलने की लगातार कोशिशें की जायें तो सकारात्मक परिणाम तो मिलने ही हैं.

31 टिप्पणियाँ:

yashoda Agrawal ने कहा…

व्वाहहहहहह
लग गया छक्का
शाब्बाश...
सादर,,,

Sadhana Vaid ने कहा…

वाह ! कितनी मनोरम कहानी ! जितनी बार पढ़ें हर बार मन पर अपनी छाप अंकित कर जाती है ! ऐसी दोहरी मानसिकता वाले महानुभावों से अक्सर साबका पड़ता रहता है जीवन में ! बहुत सुन्दर कहानी !

vandan gupta ने कहा…

आज ऐसे ही सोच बदली जा सकती है .......आईना दिखाना बहुत जरूरी हो गया है........बढ़िया कहानी

Anita ने कहा…

कथनी और करनी में अंतर जितना घटता जाये उतना ही इंसान सुखी रहता है, अंतर रहे ही न तब तो कहना ही क्या...रोचकता पूर्ण सुंदर संदेश देती कहानी, वंदना जी को बधाई !

shikha varshney ने कहा…

बढ़िया कहानी। साथ में स्थानीय भाषा का छौंक उसे और दिलचस्प बना रहा है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सकारात्मक विचारों से ओत प्रोत प्रेरणादायक कहानी । किसी की सोच को बदलने के लिए ज़रूरी है कि अप्रत्यक्ष रूप से अहसास कराना, जो इस कहानी में सुंदर तरीके से कराया गया । माँ को बेटी जो बात समझा सकी वो बहू नहीं कह पाती । यही फर्क है आज भी हमारे समाज में ।

रंजू भाटिया ने कहा…

बेहतरीन कहानी ,बहुत पसंद आई

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

सकारात्मक अंत मनमोहक.. अति सुंदर लेखन
काश हर घर में भाभी की सहयोगी होती... आज भी ना जाने कितने घरों को जरूरत है

anshumala ने कहा…

दूसरों के कहने के बजाये मनुष्य के खुद का अनुभव और सोच ही उसे बदलती हैं , वरना वो ज़िद पर अड़ा रहता हैं |

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत आभार आपका।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

लग रहा, दौड़ के गले लग जाऊं 😍😍

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत शुक्रिया वंदना

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत बहुत धन्यवाद

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

जे बात 😍 धन्यवाद दें??

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत शुक्रिया संगीता जी

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत स्नेह रंजू

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत बहुत आभार विभा जी

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बिल्कुल जी 😊

शिवम् मिश्रा ने कहा…

२००९ में ब्लॉग जगत में कदम रखने के बाद से ही वन्दना दीदी के ब्लॉग को फॉलो कर रहा हूँ ... २०१२ में लखनऊ में मिलने का भी सौभाग्य मिला था |

उनकी हर पोस्ट इस कहानी की ही तरह पाठक के मन पर एक छाप छोडती है |


ब्लॉग बुलिटेन-ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019 के सभी प्रतिभागियों को मेरी हार्दिक शुभकामनाएं |

रेणु ने कहा…

वाह ! बहुत सुंदर आयोजन शिवम् जी | आभार और शुभकामनायें |

दिगम्बर नासवा ने कहा…

लम्बे समय से पढ़ रहा हूँ और कायल हों वंदना जी की लेखनी का ... संवेदनशील कहानियाँ उनकी विशेषता है ... बहुत शुभकामनायें हैं मेरी वंदना जी को ...

Meena sharma ने कहा…

आदरणीया वंदनाजी की कहानी 'डेरा उखड़ने से पहले' का लिंक किसी साथी ब्लॉगर ने भेजा था। तब मैं ब्लॉग जगत में नई थी । उसके बाद से वंदनाजी मेरी प्रिय लेखिकाओं में हैं। मुझे आपकी सभी कहानियाँ पसंद हैं परंतु 'डेरा उखड़ने से पहले' और 'सब तुम्हारे कारण हुआ पापा' विशेष पसंद। मेरा सादर अभिवादन एवं शुभकामनाएँ वंदनाजी को।

सदा ने कहा…

वाह ... अनुपम सृजन ...बधाई सहित शुभकामनाएं

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

वंदना जी कब मेरे लिये वंदना अवस्थी दुबे से वंदना जिज्जी बन गयीं पता ही नहीं चला. एक स्नेहमयी मूरत होने के साथ साथ एक मित्र भी रहीं हैं मेरे लिये. इन्हें पढ़ना एक अनुभव रहा है, इनकई यात्राओं के संसमरण अनोखे रहे हैं और इनकी कहानियाँ बहुत प्यारी, मानो आस-पास की बात हो.
इनके सुरीले कण्ठ के आनंद से वंचित रहा हूँ किंतु चर्चे बहुत सुने हैं. बेहत्रीन चयन!!

Anuradha chauhan ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति हार्दिक शुभकामनाएं

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

सही कदम , नयी पीढ़ी अपनी बुद्धि से काम बना भी लेती है ।

संध्या शर्मा ने कहा…

लाज़वाब सृजन, देशज भाषा के शब्दों ने सोने पर सुहागा का काम किया है। हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं

संध्या शर्मा ने कहा…

लाज़वाब सृजन, देशज भाषा के शब्दों ने सोने पर सुहागा का काम किया है। हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं

उषा किरण ने कहा…

बहुत बढ़िया कहानी ...भाषा- शैली इतनी रोचक है कि अंत तक बाँधे रखती है !

Preeti 'Agyaat' ने कहा…

अहा! शानदार

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

शानदार ...👍

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार