Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 16 मई 2019

मुफ़्त का धनिया - काबिल इंसान - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज का ज्ञान:

आप चाहे कितने ही काबिल बन जाओ लेकिन अगर सब्जी वाले से धनिया मुफ्त नहीं ला सकते तो घर वालों की नज़र में आपसे ज्यादा नाकाबिल इंसान कोई नहीं है।

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~

पञ्चचामर छन्द

मुकम्मल अधूरेपन की एक अतृप्त सच्ची झूठी गाथा।

हे सुंदरी! तुम कौन हो?

फर्क नहीं पड़ता।

भारतीय सांस्कृतिक राष्ट्रवाद...

पैशन और पढ़ाई

बच्चे भी काम पर जाते है

मेरा कोना भीग रहा है

ध्रुव त्यागी की हत्या पर इतना सन्नाटा क्यों है भाई?

ख़ता है अपनी या....

ये कानपुर है मेरी जान...

~~~~~~~~~~~~~~~~~

अब एक ख़ास लिंक, 
यहाँ आप रश्मि प्रभा जी की कविताओं और कहानियों को पढ़ सकते हैं ... सुन भी सकते हैं...

स्टोरी मिरर पर रश्मि प्रभा

~~~~~~~~~~~~~~~~~

अब आज्ञा दीजिए ... 

जय हिन्द !!!

7 टिप्पणियाँ:

ब्रजकिशोर सिंह ने कहा…

धन्यवाद् सरजी.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

:)

Anuradha chauhan ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

Amit Mishra 'मौन' ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

Anita saini ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार|

Meena sharma ने कहा…

सुंदर बुलेटिन। सादर आभार।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार