Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 27 मई 2019

तीसरा शहादत दिवस - हवलदार हंगपन दादा और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार।
हवलदार हंगपन दादा
हवलदार हंगपन दादा (अंग्रेज़ी: Hangpan Dada, जन्म- 2 अक्टूबर, 1979, अरुणाचल प्रदेश; शहादत- 27 मई, 2016, जम्मू और कश्मीर) भारतीय सेना के जांबाज सैनिकों में से एक थे, जिन्होंने आतंकवादियों के साथ लड़ते हुए शहादत प्राप्त की। वे 27 मई, 2016 को उत्तरी कश्मीर के शमसाबाड़ी में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए। वीरगति प्राप्त करने से पूर्व उन्होंने चार हथियारबंद आतंकवादियों को मौत के घाट उतार दिया। इस शौर्य के लिए 15 अगस्त, 2016 को उन्हें मरणोपरांत 'अशोक चक्र' से सम्मानित किया गया। 'अशोक चक्र' शांतिकाल में दिया जाने वाला भारत का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है।


आज हम सब अशोक चक्र विजेता हवलदार हंगपन दादा के तीसरे सर्वोच शहादत दिवस पर उनका स्मरण करते हुए उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। जय हिंद। जय भारत।।

~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~ 













आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

4 टिप्पणियाँ:

महेन्‍द्र वर्मा ने कहा…

सुंदर रचनाओं का संकलन ।
आभार !

Anita ने कहा…

विविधता पूर्ण विषयों पर पठनीय रचनाओं की खबर देता बुलेटिन..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अशोक चक्र विजेता अमर शहीद हवलदार हंगपन दादा के तीसरे सर्वोच शहादत दिवस पर उनको विनम्र श्रद्धांजलि|

संजय भास्‍कर ने कहा…

बहुत ही सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति
मेरी रचना को स्थान देने के लिए..... आभार

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार