Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 13 मई 2019

भरतनाट्यम की प्रसिद्ध नृत्यांगना टी. बालासरस्वती जी की 101वीं जयंती और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को मेरा नमस्कार। 
टी. बालासरस्वती
तंजोर बालासरस्वती (अंग्रेज़ी: Tanjore Balasaraswati, जन्म: 13 मई, 1918; मृत्यु: 9 फरवरी, 1984) भरतनाट्यम की सुप्रसिद्ध नृत्यांगना थीं। उन्हें 'संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार', 'पद्मभूषण' और 'मानद विद्या वाचस्पति' आदि अलंकारणों से सम्मानित किया गया था। टी. बालासरस्वती तमिलनाडु राज्य से सम्बन्धित थीं।

टी. बालासरस्वती का जन्म 13 मई, 1918 को तमिलनाडु के चेन्नई (भूतपूर्व मद्रास) शहर में हुआ था।

एक नर्तकी के रूप में टी. बालासरस्वती ने अपने कैरियर की शुरुआत 1925 में की थी। वह दक्षिण भारत के बाहर भरतनाट्यम नृत्य प्रस्तुत करने वाली पहली कलाकार थीं। उन्होंने पहली बार सन 1934 में कोलकाता में अपनी नृत्य कला को प्रस्तुत किया था।

टी. बालासरस्वती को सन 1955 में 'संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार', सन 1973 में 'मद्रास संगीत अकादमी' से 'कलानिधि पुरस्कार' और 1977 में 'पद्म विभूषण' से सम्मानित किया था।

'भरतनाट्यम' की प्रसिद्ध नृत्यांगना टी. बालासरस्वती का निधन 9 फ़रवरी, 1984 को हुआ।


'भरतनाट्यम' की प्रसिद्ध नृत्यांगना टी. बालासरस्वती जी की 101वीं जयंती पर हम सब उन्हें शत शत नमन करते हैं।

~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~ 














आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

3 टिप्पणियाँ:

विकास नैनवाल 'अंजान' ने कहा…

सुन्दर संकलन। आभार।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

'भरतनाट्यम' की प्रसिद्ध नृत्यांगना टी. बालासरस्वती जी की 101वीं जयंती पर उन्हें शत शत नमन ।

Jyoti khare ने कहा…

सुंदर संयोजन
मुझे सम्मिलित करने का आभार
सादर

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार