Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 14 मई 2019

भई, ईमेल चेक लियो - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |


भारत में सिर्फ़ ई मेल या मैसेज करने से काम नहीं चलता!
फोन कर के बताना भी पड़ता है कि ई मेल, मैसेज किया है चेक कर लेना!
 
सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

581. पहला आतंकी!

यूपी बोर्ड की शिक्षा कुव्‍यवस्‍था, बानगी बने 165 स्‍कूल

राजनीतिक परिदृश्य में घटती वाद विवाद और तार्किक संवाद क्षमता

आई ऍम सॉरी मैने तुम्हारा दिल तोड़ा कहाँ से आया ये सॉरी :)

जोकर

पीढ़ी दर पीढ़ी से संभला एक ज़माना रक्खा है ...

साम्प्रदायिकता बिल में और राष्ट्रवाद परचम में

लघुकथा : जिंदगी की चाय

एक लड़की प्यारी ...

मौलाना हसरत मोहानी साहब की ६८ वीं पुण्यतिथि

"रूट-कैनाल”

मूर्खिस्तान--मूर्खों का स्वर्ग

खरबूजे के फेंके हुए हिस्से से बनाइए पौष्टिक शरबत

मच्छर मारेगा हाथी को - अ रीमा भारती फैन फिक्शन #8

पगडंडी

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिए ... 

जय हिन्द !!! 

9 टिप्पणियाँ:

वाणी गीत ने कहा…

वाट्सएप और फेसबूक के जमाने में ईमेल अनदेखी रह जाती है.
सही बात.
पठनीय लिंक्स!

मन की वीणा ने कहा…

भुमिका यथार्थ पर सही पकड़ आखिर हम भारतीय हैं
सभी लिंक शानदार।
सभी रचनाकारों को बधाई।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

बिल्कुल सही कहा शिवम जी की हम भारतीयों को अभी ई मेल चेक करने की आदत नहीं हुई हैं।
मेरी पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

संजय भास्‍कर ने कहा…

अभी कुछ भारतीयों को अभी ई मेल चेक करने की आदत नहीं है शानदार ब्लॉग बुलेटिन सभी रचनाकारों को बधाई।
हमे शामिल करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया ... शिवम् भाई

दिगंबर नासवा ने कहा…

सही कह रहे हैं आप ...
लिखो फिर याद कराओ ... आभार मेरी ग़ज़ल को यहाँ जगह देने के लिए ...

Anita saini ने कहा…

शानदार बुलेटिन प्रस्तुति 👌
मुझे स्थान देने के लिए आभार आदरणीय
सादर

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

विकास नैनवाल 'अंजान' ने कहा…

सही कहा आपने। कई बार मुझे भी यह करना पड़ा। मेसेज करके या ईमेल करके बताना पड़ा। रोचक लिंक्स को संकलित किया है आपने। इस बुलेटिन में मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए शुक्रिया।

उषा किरण ने कहा…

मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार🙏

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार