Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 29 अगस्त 2016

मेजर ध्यानचन्द और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।
मेजर ध्यान चन्द ( Major Dhyan Chand ) ( जन्म - 29 अगस्त, 1905, इलाहाबाद, मृत्यु - 3 दिसंबर, 1979, नई दिल्ली ) एक भारतीय हॉकी खिलाड़ी थे, जिनकी गिनती श्रेष्ठतम कालजयी खिलाड़ियों में होती है। मानना होगा कि हॉकी के खेल में ध्यानचंद ने लोकप्रियता का जो कीर्त्तिमान स्थापित किया है उसके आसपास भी आज तक दुनिया का कोई खिलाड़ी नहीं पहुँच सका।

1922 में भारतीय सेना में शामिल हुए और 1926 में सेना की टीम के साथ न्यूज़ीलैंड के दौरे पर गए। 1928 और 1932 के ओलंपिक खेलों में खेलने के बाद 1936 में बर्लिन ओलम्पिक में ध्यानचंद ने भारतीय टीम का नेतृत्व किया और स्वयं छ्ह गोल दाग़कर फ़ाइनल में जर्मनी को पराजित किया। 1932 में भारत के विश्वविजयी दौरे में उन्होंने कुल 133 गोल किए। ध्यांनचंद ने अपना अंतिम अंतर्राष्ट्रीय मैच 1948 में खेला। अंतर्राष्ट्रीय मैचों में उन्होंने 400 से अधिक गोल किए।

ध्यानचंद ने तीन ओलिम्पिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा तीनों बार देश को स्वर्ण पदक दिलाया। आँकड़ों से भी पता चलता है कि वह वास्तव में हॉकी के जादूगर थे। भारत ने 1932 में 37 मैच में 338 गोल किए, जिसमें 133 गोल ध्यानचंद ने किए थे। दूसरे विश्व युद्ध से पहले ध्यानचंद ने 1928 (एम्सटर्डम), 1932 (लॉस एंजिल्स) और 1936 (बर्लिन) में लगातार तीन ओलिंपिक में भारत को हॉकी में गोल्ड मेडल दिलाए। दूसरा विश्व युद्ध न हुआ होता तो वह छह ओलिंपिक में शिरकत करने वाले दुनिया के संभवत: पहले खिलाड़ी होते ही और इस बात में शक की क़तई गुंजाइश नहीं इन सभी ओलिंपिक का गोल्ड मेडल भी भारत के ही नाम होता।

हिटलर और सर डॉन ब्रैडमैन भी थे प्रशंसक 

ध्यानचंद ने अपनी करिश्माई हॉकी से जर्मन तानाशाह हिटलर ही नहीं बल्कि महान क्रिकेटर डॉन ब्रैडमैन को भी अपना क़ायल बना दिया था। यह भी संयोग है कि खेल जगत की इन दोनों महान हस्तियों का जन्म दो दिन के अंदर पर पड़ता है। दुनिया ने 27 अगस्त को ब्रैडमैन की जन्मशती मनाई तो 29 अगस्त को वह ध्यानचंद को नमन करने के लिए तैयार है, जिसे भारत में खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। ब्रैडमैन हाकी के जादूगर से उम्र में तीन साल छोटे थे। अपने-अपने फन में माहिर ये दोनों खेल हस्तियाँ केवल एक बार एक-दूसरे से मिले थे। वह 1935 की बात है जब भारतीय टीम आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के दौरे पर गई थी। तब भारतीय टीम एक मैच के लिए एडिलेड में था और ब्रैडमैन भी वहाँ मैच खेलने के लिए आए थे। ब्रैडमैन और ध्यानचंद दोनों तब एक-दूसरे से मिले थे। ब्रैडमैन ने तब हॉकी के जादूगर का खेल देखने के बाद कहा था कि वे इस तरह सेगोल करते हैं, जैसे क्रिकेट में रन बनते हैं। यही नहीं ब्रैडमैन को बाद में जब पता चला कि ध्यानचंद ने इस दौरे में 48 मैच में कुल 201 गोल दागे तो उनकी टिप्पणी थी, यह किसी हॉकी खिलाड़ी ने बनाए या बल्लेबाज ने। ध्यानचंद ने इसके एक साल बाद बर्लिन ओलिम्पिक में हिटलर को भी अपनी हॉकी का क़ायल बना दिया था। उस समय सिर्फ हिटलर ही नहीं, जर्मनी के हॉकी प्रेमियों के दिलोदिमाग पर भी एक ही नाम छाया था और वह था ध्यानचंद।

1956 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। उनके जन्मदिन को भारत का राष्ट्रीय खेल दिवस घोषित किया गया है। इसी दिन खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। भारतीय ओलम्पिक संघ ने ध्यानचंद को शताब्दी का खिलाड़ी घोषित किया था।

विश्व हॉकी जगत के शिखर पर जादूगर की तरह छाए रहने वाले मेजर ध्यानचंद का 3 दिसम्बर, 1979 को सुबह चार बजकर पच्चीस मिनट पर नई दिल्ली में देहांत हो गया। झाँसी में उनका अंतिम संस्कार किसी घाट पर न होकर उस मैदान पर किया गया, जहाँ वो हॉकी खेला करते थे। अपनी आत्मकथा 'गोल' में उन्होंने लिखा था, "आपको मालूम होना चाहिए कि मैं बहुत साधारण आदमी हूँ" वो साधारण आदमी नहीं थे लेकिन वो इस दुनिया से गए बिल्कुल साधारण आदमी की तरह।

मेजर ध्यानचन्द जी की 111वीं जन्म दिवस पर पूरा देश उनको याद करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है। सादर।।


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर....


हिंदीभाषी होने का दर्द ~ अमित शर्मा

शमी...सूख गये, रह गये

वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से 31 मार्च तक क्यों होता है?

एक सम्मानित साईकल चोर : The Bicycle Thief (1949)

धर्म और राजनीति - एक पुनर्परिभाषा

अद्भुत शिल्पकारी का अद्भुत नमूना कैलाश मंदिर गुफ़ा एलोरा

फसल

मेरे हिस्से की धूप

पत्तों का खाक होना

अपनों से मिला है न ज़माने से मिला है

मित्रता का भाव हो तुम


आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे, तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।। जय हिन्द। जय भारत।।

15 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

मेजर ध्यानचन्द जी की 111वीं जन्म दिवस पर उनको श्रद्धांजलि । बहुत सुन्दर बुलेटिन हर्षवर्धन ।

Nisheeth Ranjan ने कहा…

बहुत बहुत धन्यवाद् हर्षवर्धन!!

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

हॉकी के जादूगर को समर्पित ये पोस्ट बहुत अच्छी लगी.

Kaushal Lal ने कहा…

बहुत अच्छी पोस्ट.....

Kavita Rawat ने कहा…

यह जानना अच्छा लगा कि सर डॉन ब्रैडमैन के साथ हिटलर भी मेजर ध्यान चन्द जी प्रशंसक थे .. ध्यान चन्द जी को नमन!
बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

ghughuti basuti ने कहा…

मेरी कविता को ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने के लिए आभार.मैंने तो लिखना लगभग बंद कर दिया, किन्तु आप मुझे और मेरे ब्लॉग को भूले नहीं जानकार ख़ुशी हुई.

jagat ने कहा…

thanks Aim Motivational Quotes

deepak ने कहा…

thanks educational quotes

sumit baghel ने कहा…

"thankssuccess motivational quotes in hindi
"

durga ने कहा…

"thankssuccess motivational quotes in hindi
"

sumit baghel ने कहा…

"thankssuccess motivational quotes in hindi
"

deepak ने कहा…

thanks failure motivational quotes

jagat ने कहा…

thanks Aim motivational quotes

deepak ने कहा…


very nice short motivational quotes

deepak ने कहा…


very nice inspirational quotes for anxiety

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार