Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 5 अगस्त 2016

हिन्दी Vs English - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

हिन्दी और अँग्रेजी में मतभेद तो हमेशा से रहे हैं ... इन मतभेदों की झलक कहावतों और उक्तियों में भी दिख जाती है |

जैसे कि ...
 
अंग्रेजी में:The sooner the better…

हिन्दी: जल्दी का काम शैतान का काम होता है…

अंग्रेजी में: Think of the devil, and the devil is here…

हिन्दी: बड़ी लम्बी उम्र है तुम्हारी… अभी तुम्हें ही याद कर रहे थे…
 
अंग्रेजी में: Don’t wait, fight for your rights…

हिन्दी: सब्र का फल मीठा होता है…
 
अंग्रेजी में: you silly cow!

हिन्दी: गाय हमारी माता है…
 
और सबसे ज्यादा मज़ेदार :
 
अंग्रेजी में: As wise as an owl…

हिन्दी: उल्लू का पट्ठा.(आम तौर पर किसी मूर्ख व्यक्ति को कहा जाता है) 
 
ऐसे ही कुछ उदाहरण आप के पास भी हो तो अवश्य बतावें|
 
सादर आपका
 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

5 टिप्पणियाँ:

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

मानव स्वभाव हर जगह समान -सोचने का ढंग भी उसी मनोविज्ञान से प्रभावित .देश-काल की परिस्थितियों और मान्यताओं के अनुसार अंतर हो जाते हैं स्वभावगत मतभेद भी हैं,और अभिव्यक्ति हर भाषा की निराली .देखिये न- अंग्रेजी का:The sooner the better… हिन्दी की उक्ति में - काल करे सो आज कर आज करे सो अब्ब.,
दूसरे में - धीरे धीरे रे मना, धीरे सब कछु होय .
मतभेद होना भी स्वाभाविक है .
आपका आभार शिवम् जी ,आपने मेरी पोस्ट को सम्मिलित किया और ये चुने हुये अंश पढ़ने का अवसर दिया .

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति

Anurag Choudhary ने कहा…

काल करे सो आज कर आज करे सो अब, धीरे धीरे रे मना, धीरे सब कछु होय और The sooner is the better तीनों ही अलग अलग परिस्थितियों में सही साबित होते हैं.

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार