Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 6 अगस्त 2016

हिरोशिमा एयर नागासाकी परमाणु हमला और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।




साल 1945 में जापान के शहर हिरोशिमा पर 6 अगस्त और नागासाकी पर 9 अगस्त को अमेरिका ने परमाणु बम से हमला किया था। 'लिटिल बॉय' और 'फैट मैन' नामक इन परमाणु बमों ने जापान में भारी तबाही पहुँचाई। जिसका असर वहाँ की आने वाली पीढ़ियों पर जानलेवा बीमारियों से हुआ। इस भयंकर परमाणु हमले में करीब साढ़े तीन लाख लोग मारे गए और इतने ही लोग घायल हुए। इस हमले में जापान के दोनों शहरों में 90 हजार से अधिक इमारतें बर्बाद हो गयी। इस परमाणु हमले के बाद ही द्वितीय विश्व युद्ध में जापान ने आत्मसमर्पण किया और इसी दुःखद मानवीय विनाशकारी घटना के साथ द्वितीय विश्व युद्ध का अंत हुआ।


आज से 71 साल पहले हुए इस विनाशकारी हमले में मारे गए सभी लोगों को हम सभी भारतवासी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते है।


सादर
हर्षवर्धन श्रीवास्तव


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर  ……

Orkut आ रहा है आपको Hello बोलने

डोपिंग क्या है?

अंटार्कटिका

दिल्ली नकली राज्य है !

साहित्य के बे-जोड़ प्राण वायु रहे है गोस्वामी तुलसीदास / डा. सूर्यकांत मिश्रा

अपराध,बलात्कार, निलम्बन, बहाली और राजनीति

कोई हिप्पी, कोई साधु। कोई नेता, कोई अभिनेता। अजीब मिक्स है!

एक देशगान -यह भारत बहुत महान है

दोस्‍त है वही !!!

व्यर्थ नहीं यह जीवन

श्श्श्श शोर नहीं मास्साब हैं आँख कान मुँह नाक बंद करके शिष्यों को इंद्रियाँ पढ़ा रहे हैं


आज की बुलेटिन में सिर्फ इतना ही कल फिर मिलेंगे, तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

5 टिप्पणियाँ:

सदा ने कहा…

Behatreen links .... Or prastuti...

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

दिन गुजर गए, सिरहन न गुजरी :(

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

हिरोशिमा और नागासाकी परमाणु हमला मानवता के इतिहास का एक काला पन्ना । बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति हर्षवर्धन और आभार भी 'उलूक' के सूत्र 'श्श्श्श शोर नहीं मास्साब हैं...........' को स्थान देने के लिये ।

Kavita Rawat ने कहा…

सुन्दर सार्थक बुलेटिन प्रस्तुति ..आभार!

Asha Saxena ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन |
मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्वाद |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार