Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 16 मई 2018

गुलशेर ख़ाँ शानी और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार।
गुलशेर ख़ाँ शानी
शानी (अंग्रेज़ी: Shani, पूरा नाम: गुलशेर ख़ाँ शानी, जन्म: 16 मई, 1933; मृत्यु: 10 फ़रवरी, 1995) प्रसिद्ध कथाकार एवं साहित्य अकादमी की पत्रिका 'समकालीन भारतीय साहित्य' और 'साक्षात्कार' के संस्थापक-संपादक थे। 'नवभारत टाइम्स' में भी उन्होंने कुछ समय काम किया। अनेक भारतीय भाषाओं के अलावा रूसी, लिथुवानी, चेक और अंग्रेज़ी में भी उनकी रचनाएं अनूदित हुईं। वे मध्य प्रदेश के 'शिखर सम्मान' से अलंकृत और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पुरस्कृत हैं।

गुलशेर ख़ाँ शानी का जन्म 16 मई, 1933 को जगदलपुर में हुआ था। उन्होंने अपनी लेखनी का सफ़र जगदलपुर से आरंभ कर ग्वालियर और फिर भोपाल, दिल्ली तक तय किया। वे 'मध्‍य प्रदेश साहित्‍य परिषद', भोपाल के सचिव और परिषद की साहित्यिक पत्रिका 'साक्षात्कार' के संस्‍थापक-संपादक रहे। दिल्‍ली में वे 'नवभारत टाइम्स' के सहायक संपादक भी रहे और साहित्य अकादमी से संबद्ध हो गए। साहित्‍य अकादमी की पत्रिका 'समकालीन भारतीय साहित्‍य' के भी वे संस्‍थापक संपादक रहे थे। इस संपूर्ण यात्रा में शानी साहित्‍य और प्रशासनिक पदों की उंचाईयों को निरंतर छूते रहे।

आज शानी जी के 85वें जन्म दिवस पर हम सब उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।


~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~

अमर शहीद सुखदेव जी की १११ वीं जयंती

कितने लोगों की जरूरत

वेस्ट प्राइस (Walmart India) का मेरा अनुभव

स्वयं जो जाने सो ही जाने

हाथी निकला, पूँछ रह गई

चूकिए नहीं, फौरन पढ़िए यह पिता—पुत्र संवाद

खुमसुम स्तूप मतलब भूटान का गोल्डेन टेंपल

लद्दाख :- भूरे पहाड़ों ने कहा 'जुले-जुले' ....

मानवता : पृथ्वी के अतिरिक्त एक और घर की तलाश

मंटो पागल नहीं था

थोड़ी ख़ुशी थोड़ा ग़म ( तरकश ) डॉ लोक सेतिया

पेड़ लगाओ पानी बचाओ , कहता सब संसार !....नामालूम

कर्नाटक चुनाव कार्टून: यकीन नहीे हो रहा


आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।। 

5 टिप्पणियाँ:

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ प्रभात हर्षवर्धन भाई
बढ़िया बुलेटिन
आभार
सादर

Anita ने कहा…

सुप्रभात, शानी जी के विषय सार्थक जानकारी के लिए शुक्रिया, उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि, पठनीय रचनाओं की जानकारी देता बुलेटिन, आभार !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत कुछ है आज की बुलेटिन में। शानी जी को श्रद्धांजलि।

Kavita Rawat ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति

रश्मि शर्मा ने कहा…

शानी जी को नमन। बढ़िया बुलेटिन। मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार ।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार