Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 27 अप्रैल 2018

जज साहब के बुरे हाल

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम|

एक बार एक व्यक्ति ने अदालत में तलाक की अर्जी दी ... तारीख़ आने पर जज ने सवाल किया ...

जज: तुम्हें तलाक़ क्यों चाहिए?

याचिका कर्ता: जज साहब, मेरी पत्नी मुझ से लहसुन छिलवाती है, प्याज़ कटवाती है, बर्तन मँजवाती है!

जज: इसमें दिक्कत क्या है? लहसुन को थोड़ा गर्म कर लिया करो आसानी से छीले जायेगें!
प्याज को काटने से पहले फ्रिज में रख दिया करो, काटने के समय आँखें नहीं जलेगी!
बर्तन मांजने से 10 मिनट पहले भरे टब में डाल दिया करो आसानी से साफ़ हो जायेगें!
कपडे सर्फ में डालने से आधा घंटा पहले सादे पानी में भिगो दो दाग आसानी से निकल जायेगें और हाथों को भी तकलीफ नहीं होगी!

याचिका कर्ता: समझ गया हज़ूर! अर्जी वापिस ही दे दो मेरी!

जज: क्या समझे?

याचिका कर्ता: यही कि, आपकी हालत मुझसे भी खराब है!

सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

फाँस















~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

9 टिप्पणियाँ:

vibha rani Shrivastava ने कहा…

हार्दिक आभार
आपके पोस्ट की भूमिका बेहद पसंद है

Meena Sharma ने कहा…

मनोरंजक भूमिका एवं पठनीय लिंकों का संकलन ! अच्छी प्रस्तुति बुलेटिन की.... मेरी रचना का चयन करने हेतु सादर आभार !

yashoda Agrawal ने कहा…

सुबह की शुरुआत अच्छी रही
एक शानदार बुलेटिन
सादर

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

Rohitas ghorela ने कहा…

"..मै दो बाप कि ओलाद हो गया" नामक लेख ने खासा प्रभावित किया. पढ़ कर लगा कि आज भी सचे लोग जिन्दा है.

इस बुलेटिन के सारे लिंक्स बेहद लाजवाब रहे.

मुझे इस बुलेटिन का नीव बनाने के लिए आभार. :)

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

अर्चना तिवारी ने कहा…

अच्छे सूत्र हैं।

Anita ने कहा…

रोचक भूमिका के साथ सुंदर सूत्रों तक ले जाता शानदार बुलेटिन..आभार !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार