Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

ब्लॉग बुलेटिन - ब्लॉग रत्न सम्मान प्रतियोगिता 2019

बुधवार, 3 जून 2015

जयंती - बालकृष्ण भट्ट और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।
बालकृष्ण भट्ट
आज आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रथम रचनाकारों में से एक बालकृष्ण भट्ट जी की 171वीं जयंती है। बालकृष्ण भट्ट का जन्म प्रयाग (इलाहाबाद), उत्तर प्रदेश में 3 जून, सन् 1844 ई. को हुआ था। आज की आधुनिक हिन्दी साहित्य की गद्य प्रधान कविता का जनक इन्हें ही माना जाता है। बालकृष्ण भट्ट जी एक सफल नाटककार, निबंधकार, पत्रकार और उपन्यासकार थे। भट्ट जी ने कई शोधपरक निबन्ध, उपन्यास और नाटकों की रचना करके हिन्दी साहित्य में अपना अतुलनीय योगदान दिया। बालकृष्ण भट्ट जी को हिन्दी, संस्कृत, अंग्रेजी, बांग्ला और फारसी आदि भाषाओं का अच्छा खासा ज्ञान था। भट्ट जी ने आधुनिक हिन्दी साहित्य की प्रथम पत्रिकाओं में से एक "हिन्दी प्रदीप" का संपादन लगभग 32 वर्षों तक किया था। बालकृष्ण भट्ट जी की प्रमुख कृतियाँ हैं :-

निबन्ध संग्रह - साहित्य सुमन और भट्ट निबन्धावली
उपन्यास - नूतन ब्रह्मचारी और सौ अजान एक सुजान
नाटक - दमयंती स्वयंवर, बाल-विवाह, चंद्रसेन, रेल का विकट खेल
अनुवाद - वेणीसंहार और पद्मावती

बालकृष्ण भट्ट जी का लेखकों में सर्वोच्च स्थान है। भट्ट जी ने बतौर निबन्धकार, लेखक, उपन्यासकार और अनुवादक आदि के विभिन्न रूपों में हिन्दी साहित्य की सर्वथा सेवा की। बालकृष्ण भट्ट जी का निधन 20 जुलाई, सन् 1914 ई. में हो गया था।


आज हम सब हिन्दी साहित्य के इस महान निर्माता को याद करते हुए इन्हें श्रद्धापूर्वक विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।


सादर आपका
हर्षवर्धन श्रीवास्तव


अब चलते हैं आज की बुलेटिन की ओर ....













आज की बुलेटिन में बस इतना ही। कल फिर मिलेंगे। सादर ... अभिनन्दन।।

9 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बुलेटिन ने रफ्तार पकड़ ली :)
बहुत सुंदर ।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत आभार

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सार्थक बुलेटिन हर्ष ... आभार आपका |
स्व॰ बालकृष्ण भट्ट जी को शत शत नमन |

Neeraj Kumar Neer ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन .... सादर आभार लाला जी की लाल लंगोट को शामिल करने हेतू

Aparna Sah ने कहा…

achhi,pathniy buletin....

Aparna Sah ने कहा…

achhi,pathniy buletin....

Sanju ने कहा…

सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
शुभकामनाएँ।
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर सूत्र, शेष बचे सूत्र पढ़ते हैं जाकर।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति
भट्ट जी को सादर श्रद्धा सुमन!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार