Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 6 जनवरी 2019

सच्चे भारतीय और ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

यदि आप "कोका कोला" की बोतल में पानी भर कर फ्रिज में रखते हैं और हॉर्लिक्स/बॉर्नविटा के जार में दाल या मसाला भर कर रखते हैं तो...

.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.आप एक सच्चे भारतीय हैं!

सादर आपका 
शिवम् मिश्रा

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

दिल जो दीवाना नहीं आखिर को दीवाना भी था - जॉन एलिया

उलझन

ऐसा है उपहार कहाँ......

मांडू देखने के बाद...

503.अहसास तुम्हारा

न बिक पाने का दुःख

राजेन्द्र वर्मा के चार नवगीत

मैन्यूअल ओवरराइड

महाभारत की लोककथा (भाग - 65)

मेरा भाई नेवला

बीती रात का गीत


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिए ... 

जय हिन्द !!!

6 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

आज की परिभाषाओं के हिसाब से भारतीय हो जाना बहुत मुश्किल है। हो ही नहीं पा रहे हैं। गनीमत बस इसनी है की कोकाकोला की बोतल में पानी नहीं रखने वाले अभारतीय देश से अभी निकाले नहीं जा रहे हैं ।

सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति।

Devendra Gehlod ने कहा…

सच कहें तो यह तो हमारी जुगाड़ है जो हम मध्यम वर्गीय लोगो मे पायी जाती है ।
सुंदर बुलेटिन
जखीरा को शामिल करने हेतु धन्यवाद

yashoda Agrawal ने कहा…

बेहतरीन बुलेटिन.
आभार..
सादर.

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

शुक्रिया भाई।

Jayanti Prasad Sharma ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति।
रचना शामिल करने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार