Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 12 जनवरी 2019

१५६ वीं जयंती पर स्वामी विवेकानन्द जी को नमन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |


"सभी मरेंगे- साधु या असाधु, धनी या दरिद्र- सभी मरेंगे। चिर काल तक किसी का शरीर नहीं रहेगा। अतएव उठो, जागो और संपूर्ण रूप से निष्कपट हो जाओ। 


भारत में घोर कपट समा गया है। चाहिए चरित्र, चाहिए इस तरह की दृढ़ता और चरित्र का बल, जिससे मनुष्य आजीवन दृढ़व्रत बन सके।"

- स्वामी विवेकानन्द

ब्लॉग बुलेटिन टीम और हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से स्वामी विवेकानन्द जी की १५६  वीं जयंती के अवसर पर उनको शत शत नमन |


सादर आपका

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

जाड़े की एक सुबह

वादों का भ्रम टूटा

जरा तुम अपना हाथ देना

अलि  री सघन पथ ये प्रेम का 

गूगल में बेहतर तरीके से सर्च कैसे करें?

युवा होने का मतलब

हाथी की पूंछ में फंसी साईकिल

वक्ष में फोड़ा हुआ

10% आरक्षण .... इसमें संशय कैसा ?

विदा! एक भावुक कथा

महान क्रान्तिकारी सूर्य सेन "मास्टर दा" की ८५ वीं पुण्यतिथि

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिए ... 

जय हिन्द !!!

7 टिप्पणियाँ:

anuradha chauhan ने कहा…

बहुत सुंदर ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति शानदार रचनाएं मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार शिवम् जी

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

नमन स्वामी विवेकानन्द जी को उनकी 156वीं जयंंती पर।

Jayanti Prasad Sharma ने कहा…

स्वामी विवेकानन्द जी की 156 वीं जयंती पर उनको शत शत नमन। बहुत सुन्दर ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति।मेरी रचना शामिल करने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

shyam kori 'uday' ने कहा…

बहुत खूब ....

विकास नैनवाल ने कहा…

स्वामी विवेकानंद जी को नमन। सुन्दर प्रस्तुति। मेरी रचना को बुलेटिन में शामिल करने के लिए दिल से आभार।

Jyoti Khare ने कहा…

सार्थक भूमिका
सुंदर सूत्र संयोजन
सभी रचनाकारों को बधाई
मुझे सम्मलित करने का आभार
सादर

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार