Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शनिवार, 22 अक्तूबर 2016

ब्लॉग - जो अब बंद हैं - 5




मिलकर रोयें, फरियाद करें 

उन बीते दिनों की याद करें 

ऐ काश कहीं मिल जाये कोई 

जो मीत पुराना बचपन का  ... आनंद बक्शी जी की लिखी पंक्तियाँ यूँ ही नहीं, गुजरे वक़्त, रिश्तों को सोचकर गुनगुना उठता है वर्तमान 



6 टिप्पणियाँ:

कविता रावत ने कहा…

बहुत सुन्दर यादगार बुलेटिन प्रस्तुति ...

इन्दु पुरी ने कहा…

बीते दिनों की यादें ....कभी साथ नही छोड़ा इन्होने. मैं अक्सर इन ब्लोग्स पर भटकती रहती हूँ पर हर तरफ सन्नाटा ...
आपका प्रयास व्यर्थ नही जायेगा. धीरे धीरे कर सब लौटेंगे एक. जरूरी है कि हम पहले की तरह जा कर कमेंट्स देना शुरू करे.उन्हें बताएं कि देखिये हम आपको पढने लगे हैं. आइये. लिखिए.

M VERMA ने कहा…

जज़्बात अब बंद नहीं है कपाट खुल गया है
http://ghazal-geet.blogspot.in/?m=1

M VERMA ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
सुशील कुमार जोशी ने कहा…

असर होने लगा है । सुन्दर ।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कुछ तो असर है आपकी बातों का ...

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार