Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2016

ब्लॉग - जो अब बंद हैं - 3

14 टिप्पणियाँ:

इन्दु पुरी ने कहा…

मैंने बंद नही किया. सच्ची :) बहुत कम जरुर हो गया है लिखना

कविता रावत ने कहा…

सार्थक बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

वाणी गीत ने कहा…

आपके प्रयास रंग लायें....

Archana Chaoji ने कहा…

कुछ बेहतरीन ब्लॉग थे ये

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

जग जायेंगे अब तो

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

ओम पुराहित कागद जी अब इस दुनिया में नहीं हैं आंटी और बाकी blogs में कुछ एक ने दूसरा ब्लॉग शुरू कर दिया ... कुछ ने लिखना ही बंद कर दिया शायद :(

vandan gupta ने कहा…

oh .........ye sahi sthiti nahi

रश्मि प्रभा... ने कहा…

जो नहीं हैं, मालूम है ... पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए याद किया है
बिछड़ के भी एहसास नहीं बिछड़ते

kuldeep thakur ने कहा…

क्या बात है...
आप का प्रयास देखकर...
उमीद कर ही लें कि...
2017 में...
पुराने ब्लौगर फिर लिखना प्रारंभ कर देंगे...

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बाकि जो है उपस्थिति देख कर बहुत अच्छा लग रहा है । मुझे आने में देर हुई और अच्छा लगा मेरे से पहले बहुत से लोग आ गये । इसी तरह आते रहें हर जगह जगह जगह आमीन ।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

मिस यू!!

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

कोशिश जारी रहे .... अब लौटना ही होगा :)

शिवम् मिश्रा ने कहा…


आप को इस सार्थक प्रयास के लिए साधुवाद |

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आ अब लौट चलें .।।

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार