Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 3 जुलाई 2015

नौशेरा का शेर और खालूबार का परमवीर - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज ३ जुलाई है ... आज का दिन समर्पित है ... भारतीय सेना के दो महानायकों को ... यह दोनों महानायक आज भी हर सैनिक के लिए प्रेरणा बने हुये है | आज इन दोनों की ही पुण्यतिथि है |
पहले महानायक हैं ...
अमर शहीद ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान,महावीर चक्र विजेता (मरणोपरांत)
ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान (जन्म:15 जुलाई 1912 आज़मगढ़ – मृत्यु: 3 जुलाई 1948) भारतीय सेना के एक उच्च अधिकारी थे जो भारत और पाकिस्तान के प्रथम युद्ध (1947-48) में शहीद हो गये। उस्मान 'नौशेरा के शेर के' रूप में ज्यादा जाने जाते हैं। वह भारतीय सेना के सर्वाधिक प्रतिष्ठित और साहसी सैनिकों में से एक थे, जिन्होंने जम्मू में नौशेरा के समीप झांगर में मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपने प्राण गंवा दिए थे। मरणोपरांत उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया।  

और दूसरे महानायक हैं ...
 
अमर शहीद कैप्टन मनोज कुमार पाण्डे,परमवीर चक्र विजेता (मरणोपरांत) 
कैप्टन मनोज कुमार पाण्डे, (२५/०६/१९७५ - ०३/०७/१९९९) भारतीय सेना की १/११ गोरखा राइफल्स के अधिकारी थे ... १९९९ के कारगिल युद्ध के दौरान उनके अदम्य साहस और वीरतापूर्ण रण कौशल के लिए उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था | यह सम्मान उन्हें मरणोपरांत पदान किया गया था |

  आज मैं ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम और हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से नौशेरा के शेर और खालूबार के परमवीर को शत शत नमन करता हूँ और अपनी हार्दिक श्रद्धांजलि देता हूँ  |

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ 

कथा - गाथा : जयश्री रॉय (दौड़)

डिजिटल लॉकर

ब्लैक बॉक्स को ब्लैक बॉक्स क्यों कहते हैं? यह किस काम आता है और अपना काम किस तरह करता है?

प्रोमिला क़ाज़ी की छह कविताएँ

दोष किसका, दोषी कौन

बच्चू

थोड़ी सी जमीन

जीवन

(लघुकथा) घोंसला

सच या झूठ - लघुकथा

एक मजदूर की आत्मा

हर अपराधी के भीतर एक पीड़ित छुपा होता है- श्री श्री रविशंकर

'डिजिटल इंडिया': गांव-गांव पहुंचेगा इंटरनेट, आम आदमी को मिलेंगी ये सुविधाएं

बंद दरवाज़ा...

नौशेरा का शेर और खालूबार का परमवीर

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
जय हिन्द !!
 
जय हिन्द की सेना !!

9 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वीरों को नमन और हार्दिक श्रद्धाँजलि । सुंदर सूत्रों के साथ सुंदर शुक्रवारीय अंक ।

Kailash Sharma ने कहा…

अमर शहीदों को नमन...सुन्दर सूत्रों के साथ रोचक बुलेटिन...आभार

कविता रावत ने कहा…

अमर वीर शहीदों को नमन!
सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

Barun Sakhajee Shrivastav ने कहा…

श्रेष्ठ प्रयास

nayee dunia ने कहा…

veer shaheedon ko naman , meri rachna ko shamil karne ke liye hardik dhanywad..

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

Umda...Jai ho

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

Umda...Jai ho

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

Umda...Jai ho

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार