Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 14 फ़रवरी 2016

मालिक कौन है - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

एक बार एक किसान अपनी भूमि बेचने कि तैयारी कर रहा होता है, परन्तु उससे पहले उसे अपनी ज़मीन पर रहने वाले पशुओं को बहार निकालने कि ज़रूरत पड़ती है, जिसके लिए वह गाँव के हर एक घर में जाता है, और जिन घरों में आदमी का मालिक है, वह वहां एक घोड़ा दे देता है, और जिन घरों में महिलाएं मालिक हैं वहां पर मुर्गी दे देता है!

जब वह सड़क के अंत में पहुँचता है तो देखता है कि एक घर के बहार एक दम्पति बागवानी कर रहे होता हैं!

यह देख वह उनसे पूछता है कि, "आप दोनों में से घर का मालिक कौन है!"

यह सुनते ही आदमी जवाब देता है, " मैं हूँ!"

जवाब पाकर किसान कहता है, " मेरे पास दो घोड़े हैं एक काले रंग का और एक भूरे रंग का आप कौनसा घोडा लेना पसंद करेंगे!"

आदमी थोड़ी देर सोचता है और जवाब देता है, " काले रंग वाला!"

तभी उस आदमी कि पत्नी बोलती है, "नहीं नहीं भूरे रंग का घोडा लो!"

यह सुन वह किसान उस जोड़े से कहता है, " यह लीजिये आपकी मुर्गी!"

यह तो हुई उस किसान की बात ... अब आप के घर का मालिक भले ही कोई हो ... आपस मे प्रेम और तालमेल बनाए रखते हुये आज वेलेंटाइल डे मनाएँ | आप सब को वेलेंटाइल डे की हार्दिक शुभकामनाएं |

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

वैलेनटाइन दिन

प्यार का भी भला कोई दिन होता है ...

अभी मैं रेड़ी नहीं हूँ (एक साल केजरीवाल)

मेरा मन उदास है !

पश्चिमी सभ्यता का हमारे उपर पड़ा प्रभाव

प्रेम में ...

प्रेम दिवस पर इक पत्र सभी महिलाओं के नाम पर ( कविता ) डॉ लोक सेतिया

चवन्नी सी तुम! 

देश प्रेम देश भक्ति और देश

मधुबाला = अनारकली = इश्क़

हर्ष फायरिंग प्रतिबंधित हो

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

5 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वेलेंटाइन डे की शुभकामनाएं । सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति । आभार शिवम जी 'उलूक' के सूत्र 'देश प्रेम देश भक्ति और देश' को आज के बुलेटिन में स्थान देने के लिये ।

Jyoti Dehliwal ने कहा…

शिवम जी, ब्लॉग बुलेटिन में मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। उम्दा लिंक्स।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति
आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Shanti Garg ने कहा…

सार्थक व प्रशंसनीय रचना...
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार