Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 31 जनवरी 2012

दिल्ली की सर्दी और मेरी बातें - ब्लॉग बुलेटिन

ब्लॉग बुलेटिन आपका ब्लॉग है.... ब्लॉग बुलेटिन टीम का आपसे वादा है कि वो आपके लिए कुछ ना कुछ 'नया' जरुर लाती रहेगी ... इसी वादे को निभाते हुए लीजिये पेश है हमारी नयी श्रृंखला "मेहमान रिपोर्टर" ... इस श्रृंखला के अंतर्गत यह सोचा गया था कि हर हफ्ते एक दिन आप में से ही किसी एक को मौका दिया जायेगा बुलेटिन लगाने का ... पर आप सब के सहयोग को देखते हुए अब से हफ्ते में २ दिन हमारे मेहमान रिपोर्टर अपनी पोस्ट लगाया करेंगे ... तो अपनी अपनी तैयारी कर लीजिये ... हो सकता है ... अगला नंबर आपका ही हो !



 "मेहमान रिपोर्टर" के रूप में आज बारी है अभिषेक कुमार जी    की...
-----------------------------------------------------------------------
एक तो दिल्ली और उसपे दिल्ली की सर्दी...कुछ भी काम करने का दिल नहीं कर रहा और ऐसे में शिवम भईया ने कहा कि  ब्लॉग-बुलेटिन पर आगाज करो..वैसे तो वो कम खुराफाती नहीं हैं लेकिन साफ़ दिल के मालिक भी हैं, तो उनकी बात मुझे रखनी पड़ी.सोचा तो था कि जिस दिन उन्होंने कहा उसी दिन यहाँ पोस्ट लगा दूँगा लेकिन कुछ काम में ऐसा फंसा कि ये पोस्ट टालता ही गया.आज फुर्सत मिली तो सोचा आराम कर लूँ, कल बुलेटिन लिख दूँगा...लेकिन फिर पता नहीं कहाँ से उड़ते उड़ते एक 'फेमस' मुहावरा मेरे दिमाग में बैठ गया.."कल करे सो आज कर..आज करे सो अब". वैसे तो मैं इस मुहावरे में कुछ खास यकीन रखता नहीं(आलसी हूँ), लेकिन फिर भी सोचा कि एक तो वैसे ही देर हो गयी और कम से कम ब्लॉग-बुलेटिन के लिए तो इस मुहावरे का मान रख ही लेना चाहिए, तो बस फिर क्या था..किबोअर्ड उठाया और ब्लॉग-बुलेटिन की अपनी पहली पोस्ट लिखना शुरू कर दिया...

जनवरी का ये सप्ताह बड़ा ही खास है..कम से कम मेरे लिए तो है ही.पिछले साल ही 23 जनवरी को मेरी बहन की शादी हुई और दो साल पहले, 21 जनवरी 2010 को मैंने अपने इनैक्टिव पड़े ब्लॉग "My Space My Blog" को फिर से एक्टिव करने का फैसला किया था और इसी दिन मैंने ब्लॉग का नाम बदल कर "मेरी बातें" रख दिया था.मैंने अपना यह ब्लॉग बहुत पहले बनाया था(साल 2007 में), लेकिन लिखता बहुत कम था, और ज्यादातर अंग्रेजी में ही लिखता था.प्रशांत प्रियदर्शी(हिंदी ब्लॉग-जगत के सुपरस्टार ब्लॉगर :P)से मुझे हिंदी में ब्लॉग लिखने की प्रेरणा मिली.वैसे तो अब इसके नखरे और टैन्ट्रमस इतने हैं की मत पूछिए, लेकिन फिर भी उन दिनों इसने मुझे अच्छे से गाईड किया, अच्छे अच्छे ब्लॉगर जो बहुत अच्छा लिखते हैं उनके बारे में भी विस्तार से इसने मुझे बताया.मेरी खुस्किमती रही की बहुत कम समय में बहुत अच्छे अच्छे लोगों से मुलाकात भी हो गयी और बहुतों से एक पारिवारिक रिश्ता भी बन गया.उसी साल जनवरी के इसी हफ्ते में मैंने अपने एक और इनैक्टिव पड़े ब्लॉग "Love Immortal" का नाम बदल 'एहसास प्यार का' रखा था.फिर कुछ दिनों बाद इस ब्लॉग पे भी पोस्ट लिखना मैंने शुरू किया.पिछले एक सालों से इस ब्लॉग में मैं बहुत कम लिखता हूँ, लेकिन जब भी लिखता हूँ तो पूरी शिद्दत के साथ.

2010 में ही मैंने एक और ब्लॉग शुरू किया "कार की बात", जिसका उद्देश्य था कारों के बारे में हिंदी में अच्छी और सही जानकारी देना.देखा जाता है की अक्सर हिंदी में कारों के बारे में बहुत से तर्क-हीन और उलटे पुलते खबरे हमारे सामने आती हैं.ये मेरा एक प्रयास था की कारों के बारे में बहुत सी जानकारियां लोगों के सामने अपनी भाषा में लाऊं.लेकिन कारों के बारे में हिंदी में लिखना, हिंदी में जानकारी देना थोडा कठिन था.,फिर भी मैंने कोशिश की और समय समय पर कुछ न कुछ इस ब्लॉग पे पोस्ट करते ही रहा.सच कहूँ तो शुरू शुरू में मुझे ये उम्मीद बिलकुल नहीं थी की लोग इस ब्लॉग को पढेंगे भी..लेकिन ब्लॉग पर आने जाने वाले मुसाफिरों को देख कर लगता है की ब्लॉग-जगत में रफ़्तार के दीवाने बहुत हैं जो अक्सर मेरे कार वाले ब्लॉग पर सैर करने चले आते हैं.इस ब्लॉग का आईडिया भी प्रशांत का ही दिया हुआ था.उसने मुझे कहा की हिंदी में कारों के विषय में ब्लॉग नहीं हैं, तो तुम एक ऐसा ब्लॉग बनाओ जो सिर्फ करों पर केंद्रित हो.प्रशांत की बात मुझे अच्छी लगी और मैंने आख़िरकार 'कार की बात' की शुरुआत कर ही दी.शायद अब भी ये कारों के बारे में हिंदी का एकमात्र ब्लॉग है(अगर कोई दूसरा भी आपको पता है, तो कृपया उसका लिंक देने का कष्ट करें).

इतने लोग इस ब्लॉग-जगत में मुझे मिले हैं, की सबका नाम लेना मुमकिन ही नहीं है लेकिन कुछ वैसी पोस्ट आपके सामने जरूर लाना चाहूँगा जो मेरे लिए अलग अलग कारणों से खास है और जिनके कुछ टुकड़े मैंने सुरक्षित रख भी लिए हैं अपने पास..

शिखा दी के स्पंदन से - बर्फ के फाहे और वेनिस की एक शाम

रश्मि दी के 'अपनी उनकी सबकी बातें' से - कुछ 'वैलेंटाइन डे'...ऐसे भी, गुजरते हैं और भाई-बहन के निश्छल स्नेह के कुछ अनमोल पल

प्रशांत की 'मेरी छोटी सी दुनिया से -  ये बूढ़ी पहाड़ियां अक्सर उदास सी क्यों लगती हैं? और अब भी उसे जब याद करता हूं, तो बहुत शिद्दत से याद करता हूं

पूजा जी की 'लहरें' से - सोचिये तो लगता है भीड़ में हैं सब तनहा और यूँ जिंदगी गुज़ार रहा हूँ तेरे बगैर

पंकज के 'होकर भी न होना' से - स्टेचू और चंद मुलाकातों की है दिल कि कहानी!!

स्वप्निल भाई के 'कोना एक रुबाई का' से बादल ओढ़े धूप खड़ी है और तुम आओ तो

चचा जी के 'चला बिहारी ब्लॉगर बनने' से मन का टीस और हमरा ब्लॉग परिवार

पुराने पोस्टों से अब थोडा रुख करते हुए चलते हैं कुछ और खूबसूरत पोस्टों के तरफ...

[१] हथकढ - घास की बीन
-किशोर चौधरी
क्यों एक दिन हो जाता है इश्क़ मुल्तवी, सौदा ख़ारिज,  
क्यों ताजा खूं की बू आती है, क्यों परीशां परीशां हम हैं?

[२] हथकढ - हसरतों के बूमरेंग
-किशोर चौधरी
ये दो स्वप्न ताज़ा रील के टुकड़े हैं. इस यात्रा में कथानक और दृश्य अक्सर जम्प करते हुए नए स्थानों पर पहुच जाते हैं. इन्हें अपने इस रोज़नामचे में इसलिए दर्ज़ कर रहा हूँ कि कुछ भी बिना वजह नहीं होता है. मौसम में कल रात का सुरूर बाकी है. ज़िन्दगी, जंगल में भटक रहा एक शिकारी है, जिसकी बन्दूक में समय नाम का बारूद भरा है. मेरी मैगज़ीन में हसरतों के बूमरेंग रखे हैं. बेआवाज़ लौट लौट कर आते हैं, मेरे पास...


[३] शाद्वल - ये खूबसूरत-सी बेख्याली
-स्मृति सिन्हा
तहें लगाऊं इस दुपट्टे कि कुछ इस तरह कि ये छींटें ऊपर से किसी को नज़र न आयें, अन्दर की तहों में चले जायें. पर ज्यादा अन्दर नहीं. बस इतना भर कि जब ऊपर कि तहों को एक कोने से पकड़ के उठाऊं तो अन्दर वाली तह में वो छींटें दीख पाएं. हाँ वही! कोरे दुपट्टे पर आसमानी से! उनपर उँगलियाँ फेरती हुई मन ही मन  सोचा करूंगी तुम्हे. कि तुम तो अब भी डूबे होगे उन्हीं रंगों में .बैठे होगे बहुत-से रंग भरे हौजों के बीच में, किसी पागल लड़की का कोरा दुपट्टा लिए हाथों में...पेशानी पे बल और दो-एक उलझी लटें लिए...खोये से...दुनिया से बेख्याल इस ख्याल में डूबे कि किस दुपट्टे को कौन-सा रंग देना है- गुलाबी,आसमानी,धानी,चम्पई,सुरमई.


[४] अगड़म बगड़म स्वाहा - अथ श्री "कार" महात्म्य!!!
-देवांशु निगम
मुझे लगता है कि कारें भी शो-रूम में जाने से पहले  बाटलीवाला, पेगवाला टाइप किसी ज्योतिषी को अपने टायर दिखा के भविष्य पूंछती होंगी कि बाबा बताओ मैं पर्सनल प्रोपर्टी बनूंगी या किराये की ? बाबा उन्हें यज्ञ , हवन, माला, अंगूठी टाइप चीजों का आइडिया देते होंगे | कहते होंगे नाम में १०-१२ ई , १५-२० ए घुसेड़ लो , मनचाहा मालिक या मालकिन मिलेगी | हफ्ते में किसी एक दिन अपने अपने इष्ट देव के मंदिर भी जाते होंगी ये सब कार|

[५]सोचालय - मेरी पीठ पर एक तिल है, अंदाज़ा लगाओ तो फिसल जाता है
-सागर
मैं थकने लगा हूं। पैर बस घिसट रहे हैं। नट वोल्टों का भी अब तेज़ी के घूमते देखना अब बंद हो गया है। वहां कुछ स्टील जैसा है बस वो चमक रही है। बेतहाशा हांफते रहा हूं, दिल की धड़कन असामान्य हो चली है, शायद नापना संभव नहीं है, सामान्यतया मैं मुंह बंद करके दौड़ता हूं यह इस वक्त फेफड़े को किसी समंदर के उपर मंडराती जितनी हवा चाहिए। 'हांफना' नामक यह क्रिया मेरे नाक तो नाक, मुंह, आंख और कान तक से निकल रहा है। पिंजरे के नीचे और कमर के बची की खाली जगह पर जोरों का दर्द हो रहा है। मेरे दोनों हाथ वहां चले गए हैं। मालूम होता है किडनी अपने जगह पर नहीं रही। कहीं गिर गई है। मैं वो जगह ज़ोर से पकड़ दबाए हुए हूं।

[७]हथकढ-ऑक्सफोर्ड टो वाले शू
-किशोर चौधरी
और ऐसे ही किसी दिन न भूल पाने की बेबसी में
एक से दूसरे कमरे में टहलता रहता हूँ
याद की खिड़कियों पर सुस्ताती गिलहरियों को देखता
बेसबब वार्डरोब को खोले चुप खड़ा सोचता हूँ,
दीवार... दराजें... स्याही... कुहासा...शहर और वीराना
एक विलंबित लय में लौट आता हूँ बिस्तर पर...

फिर 
समय की धूल से भरे तकिये पर सर रखे सोचता हूँ 
कि रिसाले और किताबें नहीं दे पाते हैं सीख, तुम्हें भूल पाने की 



[८]लहरें-दिल्ली- याद का पहला पन्ना
-पूजा उपाध्याय
मुझे कोई खबर नहीं कि मैं रोई क्यूँ...ख़ुशी से दिल भर आया था...सारी यादें ऐसी थीं कि दिल में उजली रौशनी उतर जाए...एक एक याद इतनी बार रिप्ले हो रही थी कि लगता था कि याद की कैसेट घिस जायेगी...लोग धुंधले पड़ जायेंगे, स्पर्श बिसर जाएगा...पर फिलहाल तो सब इतना ताज़ा धुला था कि दिल पर हाथ रखती थी तो लगता था हाथ बढ़ा कर छू सकती हूँ याद को. 

और चलते चलते आखिर में पूजा जी की ही खूबसूरत आवाज़ में सुनिए ये पॉडकास्ट

[९]पूजा नॉनस्टॉप - कच्ची आवाजें
-पूजा उपाध्याय

अब आज्ञा दीजिये ... फिर मिलेंगे ...

सादर आपका 

-अभि

26 टिप्पणियाँ:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

Badhiya Raha Buletin...

Archana ने कहा…

बिलकुल "अभि स्टाईल" में बढ़िया बुलेटिन....

अनुपमा त्रिपाठी... ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन ...बधाई एवं शुभकामनायें ...

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

दिल्ली के ठण्ड का असर बिहार में भी था , लेकिन लगता है , आज से कम होने लगेगा.... ! आपने अपने साथ-साथ अच्छे लिंक्स की जानकारी दी.... ! अच्छा लगा.... :):)

डॉ. नागेश पांडेय 'संजय' ने कहा…

इधर पहली बार आया, आनंद आ गया. प्रभावी लिंक..... बधाई हो ...

संध्या शर्मा ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन....

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

@लेकिन फिर भी उन दिनों इसने मुझे अच्छे से गाईड किया,
:) क्या ज़माना था ...

RITU ने कहा…

ख़बरों और लिनक्स से लबालब bulletin ..
kalamdaan.blogspot.com

सञ्जय झा ने कहा…

sundar....ati sundar......param sundar......


sadar.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

सर्दी है , पर अलाव की तरह बुलेटिन !

वन्दना ने कहा…

बडा ज़बरदस्त बुलेटिन लगाया है ………झक्कास्।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

इस ब्लॉग-बुलेटिन का एक बटा सात सदस्य होने के नाते सबसे पहले शुभकामनाएं इस श्रृंखला की शुरुआत पर... जब कोइ मेहमान ब्लोगर इस बुलेटिन पर लिखता है तो उसका उत्साह देखते बनाता है और हमें मौक़ा मिलता है मेहमान के मन की बात सुनने-समझने का.
आज जब अभिषेक को देखा तो दिल खुश हो गया. बेंगलुरु से दिल्ली आ गया मगर आदतें बेंगलुरु वाली ही रही. जितनी स्माइली इसने मेरी पोस्टों पर चिपकाई हैं उतनी सिर्फ मेरी बेंगलुरु वाली सरिता दीदी ने ही चिपकाई होंगी.. खैर! शीर्षक से लगा सर्दी का ज़िक्र होगा, लेकिन पता चला कि अभिषेक ने अपने सर्द पड़े ब्लोग्स को कैसे नया जीवन दिया इसकी चर्चा है.. इसके ब्लोग्स में से एक ब्लॉग ऐसा है जिसकी रफ़्तार मुझसे नहीं संभलती और दूसरा ऐसा है कि मुझे अपने बड़प्पन का लिहाज़ कर बाहर ही रुक जाना पड़ता है.. इसलिए बस एक ब्लॉग से जुड़ा हूँ अभी तक..
अच्छी बुलेटिन है और सारे साहित्यिक लिंक दे डाले हैं उसने... देखते हैं आहिस्ता-आहिस्ता!!

सदा ने कहा…

बहुत ही बढि़या लिंक्‍स के साथ अच्‍छी शुरूआत ...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अभिषेक जी आपका बहुत बहुत आभार जो आपने ब्लॉग बुलेटिन पर एक "मेहमान रिपोर्टर" के रूप में अपनी यह पोस्ट लगाई ! हमारी इस नयी श्रृंखला को एक और बढ़िया परवाज़ देने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद !

कविता रावत ने कहा…

sardi mein uraja bhara bulletin prastuti hetu aabhar!

veerubhai ने कहा…

ब्लॉग में बुलेटिन का मजा आ गया ,एक के साथ अनेक फ्री .

shikha varshney ने कहा…

अरे वाह अभिषेक बाबू बहुत छाये हुए हो आजकल,ब्लॉग बुलेटिन और क्या क्या :)

अजय कुमार झा ने कहा…

ई मिसर जी के खोपडी का घनघोर आइडिया था , और केतना जुलुम निकला ई अब बुझा रहा है । मेहमान रिपोर्टर के रूप में आते ही अपने बहुत करीबी और नियमित दोस्तों का भी एक अलग अंदाज़ निकल कर सामने आ रहा है । जियोह्ह बच्चा लाल ..आप डिड्टिंकन मार्क्स से पास हुए हैं ..जियोह्ह ...लेमनचूस का पाकिट ईनाम स्वरूप दिया जा रहा है आपको । खुश रहो

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन..

mukesh ने कहा…

bahut badhiya

मनोज कुमार ने कहा…

बढ़िया चर्चा.

देव कुमार झा ने कहा…

वाह रे.... ज़बरदस्त.

abhi ने कहा…

केतना अच्छा लग रहा है शिवम भईया के मुहं से अईसा तारीफ़ सुनना बता नहीं सकते...और चचा जी, एतना बड़का कमेन्ट...दिल खुश हो गया,

थैंक्स टू एवरीवन :):)

Puja Upadhyay ने कहा…

सॉलिड लिखे हो एकदम...तुम्हारी कई पोस्ट्स मेरी भी फेवरिट हैं...उन्हें यहाँ जमा देख कर बहुत अच्छा लगा :)
हथकढ़ को पढ़ना नशे की तरह तारी होता है...कितने कितने दिन फिर उससे उबरना नहीं होता...
सागर की पोस्ट्स अक्सर कुछ ऐसा उधेड़ जाती हैं जो सामने था तो सही पर उसे वैसा उकेरने की काबिलियत किसी और के पास नहीं।
पंकज बाबू महा आलसी इंसान हैं...इनसे कुछ नया लिखवाना टेढ़ी खीर है...पर उसकी लिखी कुछ कहानियाँ बेहद चिपकू हैं...बिसरती ही नहीं...ऐसे ही उसका पसंदीदा तकियाकलाम...होकर भी नहीं होना।
पीडी जब सेंटी लिखता है तो सबको पीछे छोड़ जाता है...घर परिवार पर उसकी कुछ पोस्ट्स पढ़ कर लगता है काश हम भी इतनी सादगी से अपने प्यार को बयान कर पाते।
स्मृति का लिखा ऐसी नज़ाकत से भरा होता है की लगता है कि मलमल के कपड़े में लपेट कर सहेज लूँ।
देवांशु का सेंस ऑफ ह्यूमर जबर्दस्त है...कायल हैं हम उसके वैसे पोस्ट्स के।

इतने लोगों को तो मैं जानती और अच्छे से पढ़ती हूँ...बाकियों को अब से पढ़ने लगूँगी।

मेरे ब्लॉग के इतने सारे लिंक देख कर भी अच्छा लगा...वो भी पुराने पुराने! शुक्रिया दोस्त। वो पॉडकास्ट का ब्लॉग...हाय राम...उसमें अपनी आवाज़ को लेकर बहुत conscious हो जाते हैं...हमको एकदम पसंद नहीं है...पर क्या करें नेट पर जब कोई नियमित पॉडकास्ट करने वाला नहीं मिला तो सोचा खुद ही शुरू हो जाते हैं बकवास ले के। :) :)

मस्त ब्लॉग बुलेटिन...एकदम चकाचक। :)

Smriti Sinha ने कहा…

अब तक आपकी संवेदनशील कहानियाँ ही पढ़ी थीं(और उनमे से कई मेरी फेवरेट हैं), आज बुलेटिन भी पढ़ लिया. बहुत ही बढ़िया लिखा है. इनमे से बहुतों को पढ़ती आयी हूँ,कुछ लिंक्स पहली बार देखे,उन्हें अब पढूंगी.
मेरे ब्लॉग को शामिल करने का शुक्रिया :)

देवांशु निगम ने कहा…

अरे वाह अभिषेक बाबू, मिस हो गया था बुलेटिन, शुक्रिया है जी , हम तो खुश हो गए एक दम्मे!!!!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार