Subscribe:

Ads 468x60px

Featured Posts

शुक्रवार, 21 जुलाई 2017

"कौन सी बिरयानी !!??" - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

चित्र गूगल से साभार
एक बार एक आदमी समुद्र में नहाते हुए डूबने लगता तो वह भगवान् से प्रार्थना करते हुए कहता है,

"हे भगवान्! मैं बच गया तो 100 गरीबों को बिरयानी खिलाऊंगा"।

अभी उसकी बात ख़त्म ही हुई होती है की एक तेज़ लहर उसे किनारे पर फेंक देती है।

जैसे ही वह आदमी किनारे पर पहुंचा, उसने ऊपर देखा और कहा,

"कौन सी बिरयानी !!??"

तभी अचानक एक और लहर आयी और उसे वापस समुद्र में ले गयी।

आदमी: "मेरा मतलब था चिकन या मटन??"

सादर आपका
शिवम् मिश्रा 

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

गर्मी बहुत है

यदि खुद 'खुश' रहना चाहते हैं...तो दूसरों को ‘क्षमा’ करें!

संघर्ष :: कुछ भाव दशाएं / डॉ. सत्य नारायण पाण्डेय

प्रासंगिकता ......

ताटंक छंद

बिना मेकअप की सेल्फियाँ

मोह से निर्मोह की ओर

गणपति बप्पा मोरया

याद तुम्हारी

वक्त.....वक्त की बात है!!!

अमावस की रात .......

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!! 

गुरुवार, 20 जुलाई 2017

देश के प्रथम नागरिक संग ब्लॉग बुलेटिन

आज, 20 जुलाई 2017 को देश के चौदहवें राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविन्द निर्वाचित हुए हैं. राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार और नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द का जन्म उत्तर प्रदेश के वर्तमान कानपुर देहात के एक छोटे से गाँव परौंख में 01 अक्टूबर 1945 को हुआ था. स्‍नातक डिग्री हासिल करने के बाद उन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाने का मन बनाया. पहले और दूसरे प्रयास में नाकाम होने के बाद तीसरे प्रयास में उनको कामयाबी मिली किन्तु उन्होंने IAS की नौकरी को ठुकरा दिया. इसका कारण उनका मुख्‍य सेवा के बजाय एलाइड सेवा में चयन होना था. इसके पश्चात् उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत प्रारम्भ की. वे 1977 से 1979 तक दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्र सरकार के वकील भी रहे. उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय में 16 साल वकालत करने के बाद उन्होंने राजनीति में पदार्पण किया.


वर्ष 1977 में जनता पार्टी की सरकार में वे तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरार जी देसाई के निजी सचिव रहे. बाद में सन 1991 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने का निर्णय लिया. वे वर्ष 1994 और सन 2000 में उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए. वह भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी रहे. पार्टी के प्रति उनकी निष्ठा और ईमानदारी को देखते हुए सन 2015 में उन्हें बिहार का राज्यपाल बनाया गया. अपनी निर्विवाद और स्वस्थ कार्यशैली के चलते वे विरोधियों में भी लोकप्रिय हैं. यही कारण है कि जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एनडीए के सर्वसम्मत राष्ट्रपति उम्मीदवार के रूप में उनका नाम घोषित किया तो सबसे पहले बधाई देने वालों में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार थे.

आज 20 जुलाई 2017 को हुई मतगणना के आधार पर एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को 66 प्रतिशत मत (702044 वोट वैल्यू) प्राप्त हुए. वहीं विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को 34 प्रतिशत मत (367314 वोट वैल्यू) प्राप्त हुए. 14वें राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद 25 जुलाई 2017 को शपथ ग्रहण करेंगे.

ब्लॉग बुलेटिन परिवार की तरफ से उनको हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई.

++++++++++














लेखागार