Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

सोमवार, 18 जून 2018

बिहार विभूति डॉ. अनुग्रह नारायण सिंह जी और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिंदी ब्लॉगर्स को नमस्कार। 
अनुग्रह नारायण सिंह (अंग्रेज़ी: Anugrah Narayan Sinha, जन्म: 18 जून ,1887; मृत्यु: 5 जुलाई, 1957) भारतीय राजनेता और बिहार के पहले उप मुख्यमंत्री, सह वित्तमंत्री (1946-1957) थे। अनुग्रह बाबू (1887-1957) भारत के स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षक, वकील, राजनीतिज्ञ तथा आधुनिक बिहार के निर्माता रहे थे। उन्हें 'बिहार विभूति' के रूप में जाना जाता था। वह स्वाधीनता आंदोलन के योद्धा थे। स्वाधीनता के बाद राष्ट्र निर्माण व जनकल्याण के कार्यो में उन्होंने सक्रिय योगदान दिया। अनुग्रह बाबू ने महात्मा गांधी एवं डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के साथ राष्ट्रीय आन्दोलन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभायी।



आज बिहार विभूति डॉ. अनुग्रह नारायण सिंह जी की 131वें जन्म दिवस पर हम सब उनके अतुलनीय योगदान को स्मरण करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~













आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर  ... अभिनन्दन।।

6 टिप्पणियाँ:

Sagar patel ने कहा…

बहुत ही मजा आया सारी पोस्ट चुनींदा और जानकारी सभर

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति।

SACCHAI ने कहा…

एक से बढ़ाकर एक सभी कमाल की पोस्ट सभी चुनिन्दा ब्लॉग एक जगह पर मिलने के आपके प्रयास को शत शत नमन

मेरी पोस्ट " राहुल गांधी ,नाम मे क्या रखा है ? " को इस शानदार जगह पर शामील करने के लीये आपका तहे दिल से आभारी हु

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

HARSHVARDHAN ने कहा…

आप सभी सम्मानित हिंदी ब्लॉगर्स का सादर धन्यवाद।

Ashwani Pundhir ने कहा…

Humari post ko apne bulletein mein jagah dene ke liye apka bahut bahut danyawad

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार