Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शनिवार, 18 नवंबर 2017

2017 का अवलोकन 4




चलते चलते ठिठकी हूँ कई बार 
ओस सी भीगी दूब 
जैसे एक अनोखा एहसास देती है 
ठीक उसी तरह 
शब्दों के गलीचे मुझे एक नई सोच देते हैं 
कई उलझे तारों को झंकृत कर देते हैं 

राहुल सिंह का ब्लॉग सिंहावलोकन आपको भी कुछ सोचने को मजबूर करेगा -



शहर में शहर रहता है
शहर में सिर्फ शहर होता है
हर शहर का अपना वजूद है
उसका अपना वजूद, अपने होने से 

चिरई-चुरगुन, तालाब-बांधा, मर-मैदान
गुड़ी-गउठान, पारा-मुहल्ला
बाबू-नोनी, रिश्ते-नाते
शाम-ओ-सहर सब
या समाहित या शहर बदर
अब शहर में बस शहर ही शहर

3 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

कम लिखते हैं मगर बहुत लिखते हैं । बहुत सुन्दर।

Rahul Singh ने कहा…

आपक सादर आभार।

सदा ने कहा…

अनुपम चयन व प्रस्तुति ....

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार