Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शनिवार, 4 जून 2016

बिछड़े सभी बारी बारी ...

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज का दिन बुरी ख़बरों के नाम रहा ...

सुबह महान मुक्केबाज़ मोहम्मद अली साहब के निधन की ख़बर के साथ हुई ... 

तो शाम होते होते ...
बॉलीवुड और मराठी सिने जगत की दिग्गज और वयोवृद्ध कलाकार सुलभा देशपांडे जी के निधन की ख़बर आ गई |

ब्लॉग बुलेटिन टीम और हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से हम इन दोनों दिग्गज विभूतियों को अपनी हार्दिक श्रद्धांजलि देते है |

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

"बच्चो तुम सब खुश रहो "

थ्री इन वन स्पैगेटी...

बोतल बंद पानी नहीं दिखेगा

रुपकुण्ड झील के रहस्यमयी नर कंकाल का ट्रैक

हम भाषा मज़हब में बट गये.....मनजीत कौर

उन्मादी और हिंसक है हम

व्यंग- सात जन्मों तक यहीं पति मिलें!!

विश्व पर्यावरण दिवस: बचाना होगा हिमालय को

अलविदा डेजी!

शूर्पणखा

नहीं रहे 'द ग्रेटेस्ट' मुहम्मद अली 

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

9 टिप्पणियाँ:

Arvind Mishra ने कहा…

आभार शिवम जी, डेजी को यहां स्थान देने के लिए

Arvind Mishra ने कहा…

आभार शिवम जी, डेजी को यहां स्थान देने के लिए

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

मोहम्मद अली सुलभा जी के साथ साथ प्रिय डेजी के लिये भी संवेदनाएं और श्रद्धांजलि ।

shikha varshney ने कहा…

ओह कैसा दिन रहा...

shikha varshney ने कहा…

ओह कैसा दिन रहा...

yashoda Agrawal ने कहा…

शुभ प्रभात..
आभारी हूँ
समस्त रचनाए पठनीय
खेद है कि पढ़ नही पाई
अब पढ़ूँगी विस्तार से
सादर

कविता रावत ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Jyoti Dehliwal ने कहा…

शिवम् जी, मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार