Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 12 जून 2017

विश्व बालश्रम निषेध दिवस और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।
विश्व बालश्रम निषेध दिवस (World Day Against Child Labour) प्रति वर्ष 12 जून को मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने की शुरुआत वर्ष 2002 ई. से हुई है। भारत के साथ-साथ दक्षिण एशिया में भी बालश्रम की समस्या कई दशकों से चली आ रही है। भारत सरकार ने भी बालश्रम को रोकने के प्रति कई ठोस कदम उठायें हैं। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 23 और 24 के द्वारा जोखिम उद्योगों में बच्चों के रोजगार पर सख्त प्रतिबंध लगाएं गए हैं। भारत में बालश्रम के पार्टी सख्त कदम उठाते हुए 'राष्ट्रीय बालश्रम नीति' बनाई गई थी।

विश्व बालश्रम निषेध दिवस को विश्व भर में मनाने का प्रमुख उद्देश्य बालश्रम की समस्या का समाधान तथा विश्व भर के हर एक बच्चे को उसका अधिकार दिलाना है। कुछ प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की रिपोर्ट के अनुसार विश्व भर में चाइल्ड लेबर (बाल श्रमिक बच्चों) की अनुमानित संख्या 21 करोड़ 80 लाख से अधिक है जो दिन प्रति दिन बढ़ती ही जा रही है। इसी रिपोर्ट के अनुसार ही भारत में बाल श्रमिकों की संख्या करीब 1 करोड़ 40 लाख से अधिक है जिसकी संख्या भी तेजी से बढ़ रही है।


~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~ 














आज की ब्लॉग बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ... अभिनन्दन।।

4 टिप्पणियाँ:

अर्चना चावजी Archana Chaoji ने कहा…

आज फुरसत से एक एक लिंक पढ़ना शुरू किया नीचे से पांच ब्लॉगों तक पहुंची ,आभार, रवि जी का न्यायाधीश के फरारी वाली पोस्ट पर मन विचलित हो आया,कैसी व्यवस्था के बीच हम रह रहे हैं,आपका सतत प्रयास लिंक को एक जगह उपलब्ध करवाने का सराहनीय है इसके लिए ब्लॉग बुलेटिन टीम का अभिनंदन

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

विश्व बालश्रम निषेध दिवस पर प्रस्तुत सुन्दर ब्लॉग बुलेटिन में 'उलूक' के सूत्र को भी स्थान देने के लिये आभार हर्षवर्धन।

Anita ने कहा…

विश्व बालश्रम निषेध दिवस पर बाल मजदूरों के बारे में जानकारी देने के लिए शुक्रिया, नन्हे हाथों में पेन्सिल और रंगों की जगह औजार पकड़े हुए देखना किसे अच्छा लगता है. सुंदर प्रस्तुति, बुलेटिन के इस अंक में मुझे शामिल करने के लिए आभार !

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति ...

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार