Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 14 जून 2016

फ़ेविक्विक से सोच नहीं जुड़ते !!!



खिलौनों की टोकरी मैं,
मेरा मन 
...
ढेर सारे कोमल, 
नुकीले शब्द 
हर थोड़ी देर में उझल देता है 
कमरे के बीचोंबीच 
अपने आस पास 
इससे खेलूँ 
इसे चलाऊँ की धुन में 
पूरा कमरा  
अस्तव्यस्त रहता है !

कई बार हारकर 
सबको समेटकर 
रख देती हूँ टोकरी में 
या फिर इधर से उधर 
लुढ़कने देती हूँ कमरे में 
रात भर नहीं सोने के उपक्रम में 
उनको छूती रहती हूँ 
.... 
ऊपर से सहज सा लगता चेहरा 
मन से कितना असहज होता है !
उमड़ता है 
घुमड़ता है 
बरसता नहीं 
एक सोंधी सी ख्वाहिश लिए 
उमस से परेशान रहता है  !!
... 
सोच की आँधी 
करीने से रखी हुई कई सोच को 
गिरा देती है 
तोड़ देती है 
या फिर बेशक्ल बना देती है 

 फ़ेविक्विक से सोच नहीं जुड़ते !!!


2 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुन्दर ।

Madhulika Patel ने कहा…

बहुत बढ़िया

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार