Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 11 अप्रैल 2016

एक निवेदन - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज शाम ट्विटर पर एक चित्र मिला ... आप से निवेदन है कि इस चित्र से प्रेरणा ले कर आप भी कुछ ऐसा करें ... मैंने भी निश्चित किया है कि कल ही करूंगा |


इतनी गर्मी के मौसम मे अगर हमारे ज़रा से प्रयास से पक्षियों को थोड़ी बहुत राहत मिल जाये तो क्या आप को खुशी नहीं होगी ... होगी न !!??

सादर आपका
शिवम् मिश्रा
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

ये जो ज़िंदगी की किताब है

मदर लॉ - भाग 2 (अन्तिम भाग)

ऐतबार

एक अविस्मरणीय मुलाक़ात -- रश्मि रविजा जी के साथ

फिल्म एक नजर में : दी जंगल बुक

ये हँसी .......

अवतार

बॉलीवुड की हांडी और बड़े साहित्यकारों की दाल

एक कहानी

सत्य

हमारी क्षमताएँ

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

6 टिप्पणियाँ:

sadhana vaid ने कहा…

आज के बुलेटिन में मेरे रश्मि रविजा जी के साथ मुलाक़ात के संस्मरण को सम्मिलित करने के लिये आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार शिवम जी ! अन्य सभी लिंक्स भी बहुत सुन्दर चुने हैं आपने !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

हमारे घर के आँगन में हमेशा ही पानी का बर्तन रखा रहता है माँ ने सिखाया था माँ तो रही नहीं बरतन अपनी जगह पर है दिन में चिढ़िया और रात में निसाचर जानवरों :) के लिये। सुन्दर प्रस्तुति शिवम जी ।

Anita ने कहा…

पक्षियों के लिए किया गया सराहनीय प्रयास..यहाँ तो पिछले कई दिनों से लगातार वर्षा हो रही है..आज के बुलेटिन में शामिल करने के लिए आभार !

Amit Agarwal ने कहा…

आपकी प्रशंसा और सम्मान के लिए आभार!

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

जी बहुत जरूरी है.

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार