Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

बुधवार, 14 अगस्त 2019

73 वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति कोविंद का राष्ट्र को संबोधन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 73 वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर आज राष्ट्र को संबोधित किया। राष्ट्रपति ने शाम लगभग सात बजे राष्ट्र के नाम संबोधन शुरू किया और इसे आकाशवाणी तथा दूरदर्शन के सभी केंद्रों से प्रसारित किया गया  सबसे पहले राष्ट्रपति कोविंद ने अपना संबोधन हिन्दी भाषा मेें किया, इसके तुरंत बाद इसका अंग्रेजी संस्करण प्रसारित किया गया। संबोधन का हिन्दी और अंग्रेजी में प्रसारण होने के बाद दूरदर्शन सभी क्षेत्रीय भाषाओं में भी इसका प्रसारण करेगा। 
आकाशवाणी से भी राष्ट्रपति के संबोधन का क्षेत्रीय भाषाओं में प्रसारण आज ही शाम आठ बजे से होगा।

संबोधन की मुख्य बातें -
  • हमारी संस्कृति की यह विशेषता है कि हम सब प्रकृति के लिए और सभी जीवों के लिए प्रेम और करुणा का भाव रखते हैं। पूरी दुनिया के जंगली बाघों की तीन-चौथाई आबादी को हमने सुरक्षित बसेरा दिया है — राष्ट्रपति कोविन्द
  • भारत युवाओं का देश है। हमारे युवाओं की ऊर्जा खेल से लेकर विज्ञान तक और ज्ञान की खोज से लेकर सॉफ्ट स्किल तक कई क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा बिखेर रही है।- राष्ट्रपति कोविन्द
  • लोगों के जनादेश में उनकी आकांक्षाएं साफ दिखाई देती हैं। इन आकांक्षाओं को पूरा करने में सरकार अपनी भूमिका निभाती है। मेरा मानना है कि 130 करोड़ भारतवासी अपने कौशल, प्रतिभा, उद्यम तथा इनोवेशन के जरिए, बहुत बड़े पैमाने पर, विकास के और अधिक अवसर पैदा कर सकते हैं— राष्ट्रपति कोविन्द
  • मुझे इस बात की प्रसन्नता है कि संसद के हाल ही में संपन्न हुए सत्र में लोकसभा और राज्यसभा, दोनों ही सदनों की बैठकें बहुत सफल रही हैं — राष्ट्रपति कोविन्द
  • मुझे विश्वास है कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए हाल ही में किए गए बदलावों से वहां के निवासी बहुत अधिक लाभान्वित होंगे — राष्ट्रपति कोविन्द
  • 2019 का यह साल, गुरु नानक देवजी का 550वां जयंती वर्ष भी है। वे भारत के सबसे महान संतों में से एक हैं। गुरु नानक देवजी के सभी अनुयायियों को मैं इस पावन जयंती वर्ष के लिए अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं — राष्ट्रपति कोविन्द
  • 2 अक्टूबर को हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाएंगे। गांधीजी, हमारे स्वतंत्रता संग्राम के महानायक थे। वे समाज को हर प्रकार के अन्याय से मुक्त कराने के प्रयासों में हमारे मार्गदर्शक भी थे — राष्ट्रपति कोविन्द
  • हम अपने उन असंख्य स्वतन्त्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों को कृतज्ञता के साथ याद करते हैं, जिन्होंने हमें आज़ादी दिलाने के लिए संघर्ष, त्या‍ग और बलिदान के महान आदर्श प्रस्तुत किए — राष्ट्रपति कोविन्द
  • तिहत्तरवें स्वाधीनता दिवस की पूर्व संध्या पर आप सभी को मेरी हार्दिक बधाई! यह स्वाधीनता दिवस भारत-माता की सभी संतानों के लिए बेहद खुशी का दिन है, चाहे वे देश में हों या विदेश में। राष्ट्रपति कोविन्द
संबोधन  का वीडियो - 

 
 सादर आपका

5 टिप्पणियाँ:

विभा रानी श्रीवास्तव 'दंतमुक्ता' ने कहा…

राष्ट्रपति कोविंद का राष्ट्र को उम्दा संबोधन
सुंदर प्रस्तुतीकरण के लिए साधुवाद
हार्दिक आभार आपका

Sweta sinha ने कहा…

आभारी हूँ शिवम् जी सादर शुक्रिया।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

सभी को स्वतन्त्रता दिवस और रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

anshumala ने कहा…

मेरी पोस्ट ब्लॉग बुलेटिन में शामिल करने के लिए धन्यवाद | अभी देखा मैंने तो अपनी पोस्ट को शीर्षक ही नहीं दिया था :)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार