Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 3 अक्तूबर 2017

94वीं पुण्यतिथि : कादम्बिनी गांगुली और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिन्दी ब्लॉगर्स को मेरा सादर नमस्कार।
कादम्बिनी गांगुली (अंग्रेज़ी: Kadambini Ganguly; जन्म- 18 जुलाई, 1861, भागलपुर, बिहार; मृत्यु- 3 अक्टूबर, 1923, कलकत्ता) भारत की पहली महिला स्नातक और पहली महिला फ़िजीशियन थीं। यही नहीं कांग्रेस अधिवेशन में सबसे पहले भाषण देने वाली महिला का गौरव भी कादम्बिनी गांगुली को ही प्राप्त है। कादम्बिनी गांगुली पहली दक्षिण एशियाई महिला थीं, जिन्होंने यूरोपियन मेडिसिन में प्रशिक्षण लिया था। उन्होंने कोयला खदानों में काम करने वाली महिलाओं की लचर स्थिति पर भी काफ़ी कार्य किया। बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय की रचनाओं से कादम्बिनी बहुत प्रभावित थीं। उनमें देशभक्ति की भावना बंकिमचन्द्र की रचनाओं से ही जागृत हुई थी।

कादम्बिनी गांगुली का जन्म 18 जुलाई, 1861 ई. में भागलपुर, बिहार में हुआ था। उनका परिवार चन्दसी (बारीसाल, अब बांग्लादेश में) से था। इनके पिता का नाम बृजकिशोर बासु था। उदार विचारों के धनी कादम्बिनी के पिता बृजकिशोर ने पुत्री की शिक्षा पर पूरा ध्यान दिया। कादम्बिनी ने 1882 में 'कोलकाता विश्वविद्यालय' से बी.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की थी। वे भारत की दो में से पहली महिला स्नातक थीं।


आज कादम्बिनी गांगुली जी की 94वीं पुण्यतिथि पर हम सब उन्हें शत शत नमन करते हैं। 








8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

कादम्बिनी गांगुली जी की 94वीं पुण्यतिथि पर उन्हें नमन। बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हर्षवर्धन।

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

कादम्बिनी गांगुली जी की 94वीं पुण्यतिथि पर उन्हें सादर नमन।अच्छे लिंक पढ़ने को मिले और मेरी लघु कथा शामिल करने के लिए आभार !

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.

Anita ने कहा…

कादम्बिनी गांगुली जी के विषय में जानकर अच्छा लगा, पठनीय सूत्रों से परिचय कराता बुलेटिन..आभार !

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी बुलेटिन प्रस्तुति

Archana Chaoji ने कहा…

कादम्बिनी गांगुली जी के बारे में आज ही जाना ... मेरे जन्म से 100 साल पहले जन्मी थी वे,नमन

priya ने कहा…

new website click here

Darren Demers ने कहा…

कादम्बिनी गांगुली का जन्म 18 जुलाई, 1861 ई. में भागलपुर, बिहार में हुआ था। उनका परिवार चन्दसी (बारीसाल, अब बांग्लादेश में) से था। इनके पिता का नाम बृजकिशोर बासु था। उदार विचारों के धनी कादम्बिनी के पिता बृजकिशोर ने पुत्री की शिक्षा पर पूरा ध्यान दिया। कादम्बिनी ने 1882 में 'कोलकाता विश्वविद्यालय' से बी.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की थी। वे भारत की दो में से पहली महिला स्नातक थीं। holiday sheet set , fluffy bed sets , chambray sheets , fancy bed sheets online , double bed duvet cover , vicky razai website , sofa cover with cushion cover , velvet bedsheet

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार