Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

संसद पर हमला, हम और ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों ,
प्रणाम |


आज १३ दिसम्बर है ... १२ साल पहले आज के ही दिन कुछ लोगो ने भारत के लोकतंत्र के प्रतीक संसद भवन की रक्षा में अपने प्राणों की आहुति दी थी !


१२ साल बाद ... आज भी भारतीय लोकतंत्र का यह प्रतीक संसद अक्सर ही हमले का शिकार रहता है ... पर अब की बार अपने ही सदस्यों के हाथो !!!
 
कौन करेगा इस की रक्षा !!??
========================== 
संसद भवन हमले के शहीदों को ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम और आप सब की ओर से शत शत नमन |
सादर आपका 
==========================

एक पोटली खुशियों की ......

निवेदिता श्रीवास्तव at झरोख़ा

यदि पश्चिमी सभ्यता को अपनाना है तो उनकी अच्छाइयों को भी अपनाना होगा --

डॉ टी एस दराल at अंतर्मंथन

एक नरम दिल फ़ौजी...गौतम राजरिशी

सदियों का संताप

ऑब्जेक्शन मी लॉर्ड at ऑब्जेक्शन मी लॉर्ड

नवान्न

जयदीप शेखर at कभी-कभार

अब स्वर्ग में भीड़-भाड़ कम है

गगन शर्मा, कुछ अलग सा at कुछ अलग सा

जीवन - मृत्यु

मजबूरी गाती है.

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया at काव्यान्जलि

याद आते हैं गंगा चाचा...

आनन्द वर्धन ओझा at मुक्ताकाश....

मैं तो जनम -जली

lori ali at आवारगी

कुर्सी से भाग रहे हैं केजरीवाल !

महेन्द्र श्रीवास्तव at आधा सच... 

15 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत कुछ है आज तो बुलेटिन में !

अनुपमा पाठक ने कहा…

संसद भवन हमले के शहीदों को शत शत नमन!

वाणी गीत ने कहा…

पढ़ने को बहुत कुछ यहाँ … पढ़ते हैं सभी बारी -बारी !
हमारा लिखा यहाँ देखना अच्छा लगा !

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया बुलेटिन
मुझे स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून ने कहा…

कार्टून का लिंक भी सम्‍मि‍लित करने के लि‍ए आभार जी

दिगम्बर नासवा ने कहा…

नमन है शहीदों को ...
सुन्दर चर्चा लिंक ...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

सुन्दर लिंक्स, मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार...! शिवम् जी....

RECENT POST -: मजबूरी गाती है.

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

बहुत खूब बुलेटिन लगाई भाई साहब | मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद् | जय हो मंगलमय हो |

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

शहीदों को नमन.. वे बाहर के थे, मगर अन्दर वालों के हमले से कैसे बचेगी संसद!! लिंक्स तो बहुत से हैं, आराम से देखता हूँ!!

Archana Chaoji ने कहा…

शहीदों को श्रद्धा सुमन ....

निवेदिता श्रीवास्तव ने कहा…

अरे ! इतना अच्छा लिखने वालों के साथ में हम भी ..... शुक्रिया :)

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

संसद भवन पर हमले की बात सोच कर आज भी खून खौल जाता है, शहीदों को नमन.
बहुत अच्छा संकलन।
धन्यवाद !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक, सामयिक व पठनीय सूत्र..

Asha Lata Saxena ने कहा…

अच्छा संकलन सूत्रों का |

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार