Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 2 अगस्त 2013

सत्य एक खाली कैनवस है


संयुक्त परिवार सुनने में बहुत अच्छा लगता है  … एक से दो भले जैसे विचार सकारात्मक भाव देते हैं, पर सत्य है एकत्व,सार है एकत्व  …. एकत्व है स्वत्व  उसके लिए संबंधों की बलि सदियों से होती आई है  …. 
सत्य एक खाली कैनवस है 
मान लो तो जीना सरल होगा,विरोधाभास कम होंगे  . ठहरने की जिद्द घातक है  ………… इस चिंतन पर चिंतन जारी रखिये और कुछ अतीत,कुछ वर्तमान के अंश पढ़िए - भविष्य कौन जाने !!!


सारी कोशिशें भविष्य की हैं,एक बार खुलके वर्तमान को जीयें - अतीत के परिधान में - असली मायने मिलेंगे 

6 टिप्पणियाँ:

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन...

sushmaa kumarri ने कहा…

behtreen buleten....

ANULATA RAJ NAIR ने कहा…

बहुत सुन्दर लिंक्स .
शुक्रिया रश्मि दी..

सादर
अनु

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन :)

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर सूत्रों से सजा बुलेटिन..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन रश्मि दी !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार