Subscribe:

Ads 468x60px

कुल पेज दृश्य

बुधवार, 6 मार्च 2013

बुद्धिशाली बुधवार का बुलेटिन ....

प्रिय मित्रगण,

सादर प्रणाम!

प्रस्तुत है आपके समक्ष आज का ब्लॉग बुलेटिन | आशा है आपका आशीर्वाद प्राप्त होगा |

http://www.madhepuratoday.com/2013/03/blog-post_6.html

http://niraamish.blogspot.in/2013/03/why-vegetarian-like-enjoy-nonvegetarian.html

http://adi-hindi-kavita.blogspot.in/2013/03/blog-post.html

http://voice-brijesh.blogspot.in/2013/03/blog-post_6.html

http://rooparoop.blogspot.in/2013/03/blog-post_6.html

http://madanmohansaxena.blogspot.in/2013/03/blog-post_3014.html

http://deepakmystical.blogspot.in/2013/03/blog-post.html

http://uchcharan.blogspot.in/2013/03/blog-post_2381.html

http://jomeramankahe.blogspot.in/2013/03/blog-post_6.html

http://ekprayas-vandana.blogspot.in/2013/03/blog-post_6.html

http://kumar651.blogspot.in/2013/03/blog-post_5.html

धन्यवाद् 

15 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

कम से कम ब्लॉग का नाम तो दे देते!
आभार!

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

चर्चा के दौरान शीर्षक,ब्लॉग का नाम,या रचना कार का नाम होना ही चाहिए,,,

Recent post: रंग,

अज़ीज़ जौनपुरी ने कहा…

prastution me shirshk aur rachnakar ke sath links jod de to ati uttam hoga

Unknown ने कहा…

इस अंक में मुझे स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

तुषार भाई ... आज तो आपने सच मे सिर्फ लिंक्स ही पकड़ा दिये ... ;)

चलो यह भी सही ... एक दिन थोड़ी मेहनत सही ... बाकी तो रोज़ पकी पकाई मिलती ही है !

फिर भी अनुरोध है कि आप सभी गुणीजनों की सलाह जरूर माने !

Tamasha-E-Zindagi ने कहा…

जी भाई जी बिलकुल...गुरुजन के वचन सर आँखों पर :)

रश्मि शर्मा ने कहा…

गजब...आज तो लिंक ही लगा दि‍या...ये अंदाज भी बढ़ि‍या लगा। मेरी रचना को स्‍थान देने का शुक्रि‍या।

Rajendra kumar ने कहा…

शुक्रिया तुषार जी,समयाभाव फिर भी सार्थक प्रस्तुती.

ADITYA BHUSHAN MISHRA ने कहा…

शुक्रिया तुषार जी.

Shah Nawaz ने कहा…

Yeh tareeka bhi achchha hai.... kyonki adhiktar links achchhe hain... Shirshak de dete to aur achchha rehta...

रविकर ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति-
आभार-

HARSHVARDHAN ने कहा…

तुषार जी बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुत की है। धन्यवाद।

नये लेख :- समाचार : दो सौ साल पुरानी किताब और मनहूस आईना।
एक नया ब्लॉग एग्रीगेटर (संकलक) : ब्लॉगवार्ता।

shikha varshney ने कहा…

चलो कम से कम लिनक्स तो दिए, कुछ न होने से कुछ होना बेहतर:).हमें तो ग्लास आधा भरा ही दिखता है क्या करें :).

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बहुत खूब

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आज तो हर एक खोल कर देखना होगा।

टिप्पणी पोस्ट करें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार