Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 11 अक्तूबर 2017

लोकनायक जयप्रकाश नारायण और ब्लॉग बुलेटिन

सभी हिन्दी ब्लॉगर्स को मेरा सादर नमस्कार।
Jayaprakash-Narayan.jpg

जयप्रकाश नारायण (अंग्रेज़ी: Jayaprakash Narayan, जन्म: 11 अक्तूबर, 1902; मृत्यु: 8 अक्तूबर, 1979) राजनीतिज्ञ और सिद्धांतवादी नेता थे। मातृभूमि के वरदपुत्र जयप्रकाश नारायण ने हमारे देश की सराहनीय सेवा की है। लोकनायक जयप्रकाश नारायण त्याग एवं बलिदान की प्रतिमूर्ति थे। जयप्रकाश विचार के पक्के और बुद्धि के सुलझे हुए व्यक्ति थे। जयप्रकाश जी देश के सच्चे सपूत थे। जयप्रकाश ने देश को अन्धकार से प्रकाश की ओर लाने का सच्चा प्रयास किया, जिसमें वह पूरी तरह से सफल रहे हैं। लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने भारतीय जनमानस पर अपना अमिट छाप छोड़ी है। जयप्रकाश जी का समाजवाद का नारा आज भी गूँज रहा है। समाजवाद का सम्बन्ध न केवल उनके राजनीतिक जीवन से था, अपितु यह उनके सम्पूर्ण जीवन में समाया हुआ था।



आज भारत के इस महान सपूत को हम सब उनके 115वें जन्मदिवस पर शत शत नमन करते हैं। सादर।।


~ आज की बुलेटिन कड़ियाँ ~














आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर ...  अभिनन्दन।।

5 टिप्पणियाँ:

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार,हर्ष.

Anita ने कहा…

जयप्रकाश नारायण जी की ११५वीं जयंती पर उन्हें सादर नमन ! पठनीय सूत्रों से सजा बुलेटिन..आभार !

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

जयप्रकाश जी को नमन ! पर मन में कहीं न कहीं यह बात भी खलती है कि अब महापुरुष सिर्फ ख़ास दिन ही याद किए जाते हैं ! धीरे-धीरे सब भुला दिए जा रहे हैं !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

जयप्रकाश नारायण जी की ११५वीं जयंती पर उन्हें नमन। आभार हर्षवर्धन 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये आज के बुलेटिन में।

रश्मि शर्मा ने कहा…

बहुत-बहुत धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार